मेघालय के उन 10 मेडिकल छात्रों को असम के मेडिकल कॉलेजों में दाखिला मिल गया है जिन्हें पहले प्रवेश देने से इनकार कर दिया गया था। शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए निर्देश के बाद इन छात्रों को मेडिकल कॉलेजों में दाखिला दिया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने उपलब्ध 27 में से 10 सीटें मेघालय को आवंटित करने को कहा था।

मेघालय के अतिरिक्त मुख्य सचिव. पी.डब्ल्यू इंग्ति ने कहा कि सभी 10 छात्रों को प्रवेश दे दिया गया है। उन्होंने कहा कि उम्मीदवारों की काउंसलिंग और स्क्रीनिंग पहले ही हो चुकी है। 10 मेडिकल सीटें खत्म करने को लेकर मेघालय की सरकार ने 4 सितंबर को असम सरकार के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की थी। ये 10 सीटें नॉर्थ ईस्टर्न काउंसिल कोटा के तहत मेघालय के लिए आरक्षित रखी गई थी।

मेघालय सरकार की स्पेशल लीव पिटीशन पर सुनवाई करते हुए जस्टिस दीपक मिश्रा और जस्टिस ए.एम.खानविलकर और डी.वाई चंद्रचूड़ की कोर्ट ने आदेश दिया कि मेघालय के हितों को ध्यान में रखते हुए यह निर्देश दिया जाता है कि 27 सीटों में से 10 सीटें उसे (मेघालय) को आवंटित की जाए। असम और मेघालय दोनों को निष्पक्ष और सही तरीके से काउंसलिंग करानी चाहिए ताकि एनईईटी क्वालिफाइड उम्मीदवारों में से एक्सक्लूसिव क्राइटेरिया से मेरिट आनी चाहिए। कोई भी उम्मीदवार जो एनईईटी क्वालिफाई नहीं कर पाया वह विचार का अधिकारी नहीं होगा।

आदेश में कहा गया है कि अगर याचिकाकर्ता या हस्तक्षेपकर्ता सक्षम प्राधिकारी की ओर से तैयार की गई मैरिट लिस्ट के मुताबिक क्वालिफाई करते हैं तो उन्हें काउंसलिंग के लिए बुलाना होगा और उसी के मुताबिक सीटें भरनी होगी। कोर्ट ने स्पष्ट किया कि यह स्पष्ट रूप से अंतरिम आदेश है। स्पेशल लीव पिटीशन व ओरिजनल सुइट में जो विवाद उठाया गया है उस पर उनकी मैरिट के मुताबिक फैसला होगा। मामले पर अगली सुनवाई अगला साल जनवरी के दूसरे सप्ताह में होगी। मेघालय सरकार ने 4 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कोर्ट से अनुरोध किया था कि मेघालय को आवंटित करने के लिए असम में रिजर्व रखी गई 10 मेडिकल सीटें रिटेन की जाए।

मेघायल सरकार ने कोर्ट से यह भी प्रार्थनी की थी कि इस मामले में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया को भी पक्षकार बनाया जाए। मेघालय का आरोप था कि असम सरकार ने मेडिकल कॉलेजों में दाखिल के लिए नियमों में बदलाव के संबंध में उसे जानकारी नहीं दी। इस बदलाव के जरिए मेघालय के लिए आरक्षित रखी जाने वाली 10 मेडिकल सीटों को खत्म कर दिया गया। असम अपने पड़ोसी राज्य मेघालय के लिए 10 सीटें आरक्षित रखता आया है। इनमें से चार-चार सीटें असम
मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल और गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल व दो सिलचर मेडिकल कॉलेज में थी।