टोक्यो ओलिंपिक के जैवलिन थ्रो कॉम्पीटिशन को लेकर मचे बवाल के बीच पाकिस्तान के जैवलीन थ्रो एथलीट अरशद नदीम ने अपनी चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने कहा कि नीरज चोपड़ा से जैवलिन लेना कोई बड़ी बात नहीं है। नीरज चोपड़ा का एक इंटरव्यू सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा था जिसमें उन्होंने कहा था कि ओलिंपिक के फाइनल से पहले उनका जैवलिन अरशद नदीम के पास था। ये दोनों खिलाड़ी टोक्यो ओलिंपिक 2020 के जैवलिन थ्रो के फाइनल में पहुंचे थे। नदीम ने पाकिस्तान के समाचार चैनल से बातचीत के दौरान इस बात की पुष्टि की। उन्होंने बताया कि नीरज के उनसे जैवलिन लेने की बात सही है।

बकौल अरशद नदीम , यह संभव है कि प्रैक्टिस के दौरान यह नीरज का फेवरिट जैवलिन रहा हो और इसी वजह से उन्होंने यह जैवलिन मुझसे लिया। कॉम्पीटिशन के दौरान यह काफी सामान्य बात है। नीरज ने हालांकि आगे यह कहा था कि अरशद एक अच्छे खिलाड़ी हैं और उनसे प्रेरणा लेकर पाकिस्तान में जैवलिन के प्रति लोगों का आकर्षण बढ़ेगा। नीरज ने हाल में एक इंटरव्यू में कहा था, मैं फाइनल की शुरुआत से पहले अपना जैवलिन तलाश कर रहा था। मुझे वह मिल नहीं रहा था। अचानक, मैंने देखा कि अरशद नदीम मेरे जैवलिन के साथ घूम रहा है। मैंने उससे कहा, भाई यह मेरा जैविलन है, यह मुझे दे दो। मुझे इससे थ्रो करना है। तब उसने मुझे वह वापस किया। तभी आपने देखा होगा कि मैंने अपना पहला थ्रो काफी जल्दबाजी में फेंका। नीरज ने गुरुवार को अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर वीडियो जारी कर कहा कि तोक्यो ओलिंपिक के दौरान पाकिस्तान के अरशद नदीम के उनके भाले के इस्तेमाल को लेकर की गई उनकी टिप्पणी से हुए विवाद से वह दुखी हैं और इसे 'गंदे एजेंडा को आगे बढ़ाने का माध्यम नहीं बनाने' की विनती की थी।