ग्रहों-नक्षत्रों की चाल का लोगों की आर्थिक स्थिति पर फर्क पड़ता है। ज्योतिषियों के अनुसार जुलाई का महीना कुछ राशियों के लिए आर्थिक रूप से बहुत अच्छा रहने वाला है। मेष, वृषभ, कन्या, मकर, कुंभ और मीन राशि वालों को इस माह आर्थिक लाभ होगा। वहीं, कुछ लोगों को चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

मेष
ग्रहों का यह संयोग आपके लिए उत्तम लाभदायक साबित होगा। आय में वृद्धि होगी। नियमित स्रोतों से धनागमन तो अच्छा होगा और आय के कुछ नए स्रोत भी खुल सकते हैं। कहीं से अचानक धन की प्राप्ति हो सकती है। नौकरी-पेशा जातकों के वेतन में वृद्धि हो सकती है। भत्तों में वृद्धि हो सकती है। अच्छे प्रदर्शन के लिए इन्सेंटिव मिल सकता है। बोनस प्राप्त हो सकता है।वृषभ
करियर को बेहतर करने के लिए काफी प्रयास करेंगे जो आपके लिए अच्छा साबित हो सकता है। आप अपने काम-धंधे में कोई साहसिक निर्णय ले सकते हैं, जिससे आगे चलकर आपको लाभ हो सकता है। आपका व्यापार/कारोबार अच्छी गति से चलेगा। लाभ के अवसर बनेंगे। नौकरीपेशा लोगों को अपने संस्थान में कोई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी मिल सकती है।मिथुन
शनि के चलते इस माह करियर में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। आपको मेहनत के अनुसार फल नहीं मिलेगा, जिससे मन में निराशा और असंतोष के भाव रहेंगे। इस मनःस्थिति के कारण हो सकता है कि आपका दिल काम में नहीं लगे, जिससे कामकाज को और नुकसान हो सकता है। लेकिन माह के उत्तरार्ध में स्थिति में सुधार आएगा। इसके बाद कार्यक्षेत्र में स्थितियां सुधरेंगी और कामकाज बेहतर होगा।कर्क
परिश्रम के अनुसार, कार्यक्षेत्र में फल नहीं मिलेगा। नौकरी में भी परिश्रम के बावजूद आप अपनी क्षमता के अनुसार प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे। इससे कार्यस्थल पर आपकी प्रतिष्ठा में कमी आएगी। धन को लेकर भी दिक्कतें बढ़ सकती हैं। लेकिन माह के उत्तरार्ध में स्थिति ठीक होगी। नौकरी में आपकी स्थिति सुदृढ़ होगी। प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी।सिंह
फल ईमानदारी से प्रयास करने पर ही मिलेगा। अगर आप शॉर्टकट अपनाने की कोशिश करेंगे, तो तीर उल्टा पड़ सकता है। ऐसे किसी भी तरीके से सफलता पाने का प्रयास आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। गैरकानूनी तरीकों को अपनाने से बचना होगा। कर चोरी करने की कोशिश न करें। नौकरीपेशा लोग अपने कामों को अच्छे तरीके से निर्धारित समय में करने में सफल रहेंगे।कन्या
ग्रहों का यह संयोग आय की दृष्टि से बहुत अच्छा है। आपके आय के नियमित स्रोत आपको अच्छा आर्थिक लाभ देंगे। कुछ नए स्रोतों से भी आमदनी हो सकती है। नौकरीपेशा लोगों के वेतन, भत्तों में वृद्धि हो सकती है। इन्सेंटिव या बोनस आदि मिल सकता है। व्यवसाय करने वालों को व्यवसाय में लाभ होगा। आय की स्थिति तो अच्छी है, लेकिन माह के उत्तरार्ध में आपके खर्चे भी बढ़ सकते हैं।तुला
आय के पुराने स्रोतों से भी धनागमन होता रहेगा। व्यवसाय से आय की स्थिति अच्छी रहेगी। काम-धंधा अच्छा रहने से मन प्रसन्न रहेगा। लेकिन दूसरे भाव में केतु विराजमान है। केतु की उपस्थिति धनागमन को लेकर कुछ चुनौती बढ़ाने का काम करेगी। धनागमन तो होगा, लेकिन आप धन के कुशल प्रयोग में स्वयं को उतने सक्षम नहीं पाएंगे।वृश्चिक
कर्म भाव के स्वामी का अष्टम में होना यानी कर्म की हानि। काम-धंधे में मन नहीं लगेगा। मन उचाट रहने से आप कामकाज को लेकर लापरवाह हो सकते हैं। इसी लापरवाही के कारण आपको नुकसान भी उठाना पड़ सकता है। धन की हानि संभव है। किसी करीबी के कारण कोई हानि हो सकती है। इसलिए आप काम-धंधे को अनदेखा न करें, ध्यानपूर्वक प्रयास करें।धनु
शुक्र और मंगल दोनों ही माह के पूर्वार्ध में अष्टम भाव में होंगे। इससे आपमें बेवजह के खर्च करने की प्रवृत्ति रहेगी। दिखावे का खर्चा कर सकते हैं और इस तरह कर्ज में भी पड़ सकते हैं। आपके कुछ छुपे हुए खर्चे संभव हैं, जिसकी वजह से आर्थिक स्थिति डांवाडोल होने का खतरा है। कर्ज लेने से बचें, क्योंकि कर्ज जल्द उतार नहीं पाएंगे।मकर
ये धनागमन के अनुकूल और धन संचय के लिए प्रेरित करने वाली स्थितियां हैं। धनागमन के नए स्रोत खुल सकते हैं। पुराने स्रोतों से भी भरपूर आमदनी होगी। 20 तारीख को मंगल के अष्टम भाव में जाने से पहले धन हानि की आशंका है। फिर अवांछित तरीकों से धन प्राप्ति संभव है। गलत तरीके से आमदनी बढ़ाने के प्रस्ताव मिल सकते हैं। सोच-समझकर फैसला करें। गलत तरीका तो अंततः गलत ही है और किसी भी समय परेशानी खड़ी कर सकता है।कुंभ
यह स्थिति आय के लिए अत्यंत लाभदायक है। आमदनी में वृद्धि होगी। यदि आपका व्यवसाय सरकारी क्षेत्र से जुड़ा है, तो वहां से भरपूर लाभ के अवसर बन सकते हैं। शासन-प्रशासन के सहयोग से आय के नए अवसर खुल सकते हैं। सरकारी नौकरी वाले लोगों के लिए समय अनुकूल रहेगा। आपके प्रभाव में वृद्धि होगी। बिजनेस में लाभ के लिए महीने का पूर्वार्ध ज्यादा अनुकूल रहेगा।मीन
परिश्रम और करीबी लोगों की मदद से आर्थिक रूप से मजबूत बनने की दिशा में प्रयास करेंगे। आय के नए स्रोत खुल सकते हैं। पुराने स्रोतों से भरपूर आय होगी। अचानक लाभ भी हो सकता है। रुका हुआ पैसा वापस मिल सकता है। मन उत्साह से भरा रहेगा। लेकिन द्वादश भाव में बृहस्पति भी विराजमान हैं। वैसे व्यय के भाव में देवगुरू की उपस्थिति आपके लिए जो भी खर्चे कराएगी, वह अच्छे और शुभ कार्यों में ही होगी।