केंद्र की भाजपा के कुछ नेता रामलीला ने जुड़े रहे हैं लेकिन इस साल दशहरा के दौरान होने वाली रामलीला के मंचन में मोदी सरकार के दो मंत्री, एक गवर्नर और कुछ बीजेपी नेता रोल निभाते नजर आएंगे। अंग्रेजी समाचार पत्र के मुताबिक 10 से 18 अक्टूबर के बीच आयोजित होने वाली रामलीला में केंद्रीय पृथ्वी एवं विज्ञान, वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री हर्षवर्धन माता सीता के पिता और श्रीराम के ससुर राजा जनक की भूमिका में नजर आएंगे। इसी के साथ केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री विजय सांपला मां पर्वती के पिता और भगवान शिव के ससुर हिमावत की भूमिका निभाएंगे।


राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली की मशहूर लव-कुश रामलीला कमेटी से जुड़े लोगों के मुताबिक असम के गवर्नर जगदीश मुखी आदिवासी राजा निषाद राज का रोल निभाएंगे जबकि दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी पिछले साल की ही तरह वानर राजकुमार अंगद की भूमिका निभाएंगे। दिल्ली विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष और बीजेपी विधायक विजेन्दर गुप्ता अत्री ऋषि की भूमिका निभाते नजर आएंगे। सूत्रों ने बताया कि 9 दिनों तक होने वाली रामलीला के लिए इन सभी नेताओं ने अपने व्यस्ततम क्षणों में से एक दिन इन भूमिकाओं के लिए निकाले हैं।


केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि उनकी भूमिका बहुत छोटी और एक दिन के लिए ही है। उन्होंने बताया कि जब रामलीला कमेटी के लोगों ने उनसे इस मुलाकात की तो वो मना नहीं कर सके। बता दें कि हर्षवर्धन पेशे से डॉक्टर हैं। लाल किला के मैदान में रामलीला आयोजित करने वाली लव कुश रामलीला कमेटी के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल के मुताबिक उनकी कमेटी इसमें समाज के सभी वर्गों को शामिल करना चाहती है। उन्होंने बताया कि रामलीला मंचन में नेताओं के अलावा बॉलीवुड की हस्तियां, खिलाड़ी भी शामिल होंगे।

गौरतलब है कि पिछले साल भी केंद्रीय मंत्री विजय सांपला और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने रामलीला में भूमिका निभाई थी। मनोज तिवारी ने अंगद का किरदार निभाया था।