आईपीएल के समाप्त होने के बाद देश टी20 विश्वकप में खेलने के लिए तैयार है, जिसकी मेजबानी ऑस्ट्रेलिया करेगा। इसके साथ ही आईपीएल में खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर सबकी नजर है। एशिया कप के अलावा दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज और फिर ऑस्ट्रेलिया में होने वाले विश्वकप के लिए भारतीय चयनकर्ताओं को यह देखने का मौका मिलेगा कि राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ी आईपीएल 2022 में कैसा प्रदर्शन करते हैं।

ये भी पढ़ेंः राजद्रोह की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने कही ऐसी बात, जानें पूरा मामला


सीजन 2021 टी20 विश्व कप में भारत की सलामी जोड़ी रोहित शर्मा और केएल राहुल थी, लेकिन आईपीएल 2022 में राहुल टूर्नामेंट में सर्वश्रेष्ठ भारतीय बल्लेबाज रहे हैं, उन्होंने दस मैचों में 56.38 की औसत और 145.01 के स्ट्राइक-रेट से 451 रन बनाए, जिसमें मुंबई इंडियंस के खिलाफ दो शतक भी शामिल हैं। दूसरी ओर शर्मा ने नौ पारियों में 17.22 की औसत और 123.01 के स्ट्राइक रेट से सिर्फ 155 रन बनाए। वहीं, भारतीय टीम में उनके एकदिवसीय सलामी जोड़ीदार शिखर धवन पंजाब किंग्स में शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं, उन्होंने दस मैचों में 46.13 की औसत और 124.66 की स्ट्राइक-रेट से 369 रन बनाए।

ये भी पढ़ेंः दो दिवसीय दौरे पर पश्चिम बंगाल पहुंचे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, जानिए क्या रहेगा कार्यक्रम


न्यूजीलैंड के खिलाफ ओपनिंग करने वाले तेजतर्रार कीपर-बल्लेबाज ईशान किशन ने आईपीएल 2022 सीजन में दो अर्धशतकों के साथ शुरूआत की, लेकिन वे आगे के मैचों में अपना प्रदर्शन नहीं दिखा पाए। नौ मैचों में किशन ने 28.13 की औसत और 111.38 के स्ट्राइक रेट से केवल 225 रन बनाए हैं। विराट कोहली पिछले दो साल से फार्म से बाहर चल रहे हैं। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की कप्तानी छोड़ने के बावजूद कोहली खराब फॉर्म से गुजर रहे हैं। उन्होंने 11 मैचों में 21.60 की औसत से 216 रन बनाए। उन्होंने सीजन का पहला अर्धशतक गुजरात टाइटंस के खिलाफ जड़ा, लेकिन इस पारी से यह संकेत नहीं मिला कि कोहली अपने फॉर्म में वापस आ गए हैं।

विकेटकीपर-बल्लेबाज के मामले में ऋषभ पंत ने दिल्ली कैपिटल्स की कप्तानी करते हुए 149.04 के स्ट्राइक रेट से 234 रन बनाए हैं। लेकिन राजस्थान रॉयल्स के कप्तान संजू सैमसन ने दस मैचों में 153.6 के स्ट्राइक रेट से 298 रन बनाकर पंत से ज्यादा रन बनाए हैं। आईपीएल 2022 के खत्म होने और भारत के विश्व कप के शुरू होने तक के अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट में काफी समय बचा है। लेकिन अगर आंकड़ों की बात करें तो मौजूदा टूर्नामेंट में भारत के बल्लेबाज अभी तक अपना शानदार प्रदर्शन नहीं दिखा पाए हैं।