केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से दिल्ली आबकारी नीति में अनियमितताओं के आरोप में चल रही जांच के सिलसिले में यहां मुख्यालय में करीब नौ घंटे तक पूछताछ की। सिसोदिया पूछताछ के लिए तलब किए जाने पर सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे जांच एजेंसी के कार्यालय पहुंचे और सीबीआई अधिकारियों द्वारा नौ घंटे की पूछताछ के बाद रात में करीब साढ़े आठ बजे कार्यालय से निकले। सिसोदिया ने दावा किया कि सीबीआई अफसरों ने उन्हें साइड से कहा कि वो आप छोड़कर बीजेपी में आ जाएं। आप में रहने पर उन्हें मुकदमे झेलने पड़ेंगे जबकि बीजेपी उन्हें दिल्ली का मुख्यमंत्री बना देगी।

ये भी पढ़ेंः कश्मीर में नहीं थम रही टारगेट किलिंग, इस बार आतंकियों के निशाने पर यूपी के दो मजदूर, ऐसे दी दर्दनाक मौत


सीबीआई के एक बयान में कहा गया है कि सिसोदिया से दिल्ली आबकारी नीति मामले में चल रही जांच के सिलसिले में पूछताछ की गई। एफआईआर में लगे आरोपों और जांच के दौरान अब तक जुटाए गए सबूतों पर उनसे सख्ती से पूछताछ की गई। बयान के अनुसार उनके बयान की उचित समय पर पुष्टि की जाएगी और जांच की आवश्यकताओं के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। मीडिया के कुछ वर्गों ने एक वीडियो प्रसारित किया है जिसमें सीबीआई कार्यालय से निकलने के बाद सिसोदिया ने कहा कि पूछताछ के दौरान उन्हें अपनी राजनीतिक पार्टी छोड़ने की धमकी दी गई थी। सीबीआई ने इन आरोपों का जोरदार खंडन किया। सीबीआई ने दोहराया कि सिसोदिया की प्राथमिकी में उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों के अनुसार कानूनी तरीके से जांच की गई थी। उन्होंने कहा कि मामले की जांच कानून के अनुसार जारी रहेगी।  सिसोदिया ने दिन की शुरुआत में ट्वीट्स की एक श्रृंखला पोस्ट की और लिखा कि मुझे आने वाले दिनों में चुनाव प्रचार के लिए गुजरात जाना था। ये लोग गुजरात में बुरी तरह हार रहे हैं। उनका मकसद मुझे गुजरात चुनाव प्रचार में जाने से रोकना है। 

ये भी पढ़ेंः दिवाली पर कहर बरपाएगी कोरोना की नई लहर, नया वैरिएंट पहुंचा भारत


उन्होंने कहा कि जब मैं गुजरात गया तो मैंने गुजरात के लोगों से कहा कि हम गुजरात में भी आपके बच्चों के लिए दिल्ली जैसे स्कूल बनाएंगे। लोग बहुत खुश हैं। लेकिन ये लोग नहीं चाहते कि गुजरात में भी अच्छे स्कूल बने, गुजरात के लोगों को भी पढ़ना और आगे बढ़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर मुझे जेल में डाल दिया गया तो गुजरात चुनाव प्रचार नहीं रुकेगा। गुजरात का हर बच्चा अब अच्छे स्कूल, अस्पताल, नौकरी, बिजली के लिए प्रचार कर रहा है , गुजरात में आने वाला चुनाव एक आंदोलन होगा। सिसोदिया ने आरोप लगाया कि उनके खिलाफ झूठा मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि मेरे घर पर छापा मारा गया, मेरे सभी बैंक लॉकरों की जांच की गई, लेकिन कुछ नहीं मिला। यह मामला पूरी तरह से फर्जी है।