यूपी के कानपुर पुलिस लाइन में गोरखपुर में पुलिस पिटाई में मारे गए प्राॅपर्टी डीलर मनीष गुप्ता की पत्नी मीनाक्षी से मुलाकात के बाद CM Yogi आदित्यनाथ ने जबरदस्त एक्शन लिया है। मुख्यमंत्री ने Manish Murder Case को लेकर मीनाक्षी द्वारा की गई नौकरी, मुआवजा और गोरखपुर से कानपुर केस ट्रांसफर कराने की मांग मान ली है। योगी ने मनीष गुप्ता की पत्नी को विकास प्राधिकरण में ओएसडी की नौकरी देने और राहत राशि भी 10 लाख से बढाने के लिये जिला प्रशासन से प्रस्ताव देने के लिए कह दिया है।


यह भी पढ़ें— Alert! इस जीव के छूने से ही फैल जाता है Rabies, गले पर बैठा तो शख्स की तुरंत हो गई Death


सीएम ने कहा कि दो दिन पहले गोरखपुर में हुई घटना बेहद शर्मनाक है। सीएम ने कहा कि कोई अपराधी बख्शा नहीं जाएगा। सपा अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का नाम लिए बगैर तंज कसा कि सौ चूहे खाकर बिल्ली हज करने चली। ये लोग प्रदेश को बदनाम, अराजकता, फैलाने और माफिया की पैरवी करने वाले लोग हैं। सरकारी योजनाओं में डकैती डालने वालों को अब परेशान नहीं हो रही है। माफिया के कब्जे पर जब बुलडोजर चलता है तो इन्हें बुरा लगता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्षी दलों का नाम लिए बिना कहा कि प्रदेश के लोगों के जीवन और जीविका के साथ खिलवाड़ करने की इजाजत किसी को नहीं देंगे। ये वही लोग है जिनके नेतृत्व में प्रदेश में दंगे होते थे। सीएए के दौरान कानपुर में भी दंगा कराया। ऐसे लोगों से सरकार को निपटना आता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि यूपी सुरक्षा का बेहतरीन बेहतरीन मॉडल दे रहा है। विकास और सुशासन के मॉडल से नए भारत का नया उत्तर प्रदेश बन रहा है।