मणिपुर के इंफाल में और इसके आस-पास के सभी ईसाई मिशनरी संचालित स्कूलों को उग्रवादियों की धमकी के बाद दूसरे दिन मंगलवार को भी बंद रखा गया. मणिपुर के शिक्षा मंत्री टी. राधेश्याम ने उग्रवादी समूह, कंगलेपाक कम्युनिस्ट पार्टी (मिलिट्री कौंसिल) से कैथलिक स्कूलों के शैक्षणिक माहौल खराब नहीं करने की अपील की है. राधेश्याम ने कहा कि ये शैक्षणिक संस्थान राज्य में एक लाख से ज्यादा बच्चों को शिक्षा दे रहे हैं. छात्रों के हितों को ध्यान में रखते हुए इन संस्थानों पर किसी भी प्रकार का प्रतिबंध नहीं लगाना चाहिए. हालांकि कहा कि विद्यालयों को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया कराने का वादा दिया है। 

कुछ स्कूलों के प्राधानाध्यापकों ने उग्रवादियों की मांग को बताने से इनकार किया लेकिन साथ ही कहा है कि धमकी वापस लेने तक स्कूल और कॉलेजों को बंद रखा जाएगा. इस बीच, कई छात्र संगठनों ने केसीपी (एमसी) से मणिपुर में स्थित स्कूल रूडा एकेडमी से प्रतिबंध हटाने की मांग की है. इन लोगों ने यह भी कहा कि आल मणिपुर स्टूडेंट यूनियन पर भी कोई प्रतिबंध नहीं होना चाहिए।