मणिपुर पुलिस ने अंतर्राष्ट्रीय मानव तस्करों से 128 लड़कों और लड़कियों को बचाया है। इंफाल के नगर पुलिस के एसएचओ बॉबी ने कहा, 'सूचना मिलने पर, शुक्रवार रात समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों के साथ पुलिस ने राजधानी के विभिन्न होटलों से 103 लड़कियों और पांच लड़कों को बचाया।'


उनमें से लगभग 73 युवा नेपाली थे। अभियानों की अगुआई इंफाल वेस्ट जिला के उप-खंडीय पुलिस अधिकारी संदीप गोपाल दास ने की। शनिवार सुबह, कमांडो और पुलिस की एक संयुक्त टीम ने तेंगनौपाल जिले में म्यांमार सीमा के पास मोरे नगर में होटलों पर छापा मारा और पांच लड़कियों और 15 लड़कों को बचाया।

 
सूत्रों ने बताया कि लड़कियों को अन्य देशों में ले जाने से बचाया गया। 15 लड़कों से पूछताछ कर यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि वे अपहृत थे या मानव तस्करी गिरोह के सदस्य। शुरुआती रिपोर्ट्स के अनुसार, युवाओं को पहले म्यांमार ले जाना था और वहां से दुबई और इराक।


नेटवर्क लाइफलाइन फाउंडेशन के सचिव एल. पिशक ने कहा कि उन्हें कार्यकर्ताओं ने युवाओं की मणिपुर के रास्ते म्यांमार में तस्करी के बारे में सचेत कर दिया गया था। इससे पहले 30 जनवरी को दिल्ली के राजीव नगर में कार्यकर्ताओं द्वारा बचाई गईं छह लड़कियों ने खुलासा किया कि कुछ लड़कों और लड़कियों को म्यांमार ले जाया जा रहा है।


तेंग्नॉपाल जिला पुलिस अधीक्षक एस. इबोम्चा ने कहा, 'हम सीमावर्ती नगर के होटलों और अन्य संदिग्ध घरों में छापेमारी जारी रखेंगे।'