मणिपुर में एक कांस्टेबल ने 24 अप्रेल की रात 10 बजे कुछ लोगों पर फायरिंग कर दी। इसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। मृतक की पहचान 25 साल के खांगेबम संतोष सिंह के रूप में हुई है। वह थौबल जिले के उखोंगसांग मयाई लैकैई में मारा गया। 

ॅसंतोष सिंह वांगजिंग स्थित आईआरई स्कूल में काम करता था। संतोष सिंह की थौबल अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। उसकी बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए जेएनआईएमस ले जाया गया। जिस कांस्टेबल ने लोगों पर फायरिंग की थी,उसकी पहचान 30 वर्षीय ई.राजेश के रूप में हुई है। वह फिलहाल पुलिस हिरासत में है। उसे सर्विस से टर्मिनेट कर दिया गया है। पुलिस ने आरोपी राजेश के पास से सर्विस रिवॉल्वर जब्त की है। 

सूत्रों के मुताबिक अखोंगसांग मयाई लैकैई में थबल चोंगबा का आयोजन हुआ था। इस मौके पर कुछ लोग पांसा खेल रहे थे। इस दौरान पुलिस की टीम वहां पहुंची। पुलिस टीम की लोगों से कहासुनी हो गई। इसके बाद कांस्टेबल राजेश ने संतोष पर फायर कर दिया। संतोष को 3 गोलियां मारी गई। इससे उग्र हुई भीड़ ने राजेश का घर जला दिया। संतोष की मौत के विरोध में इंफाल-मोरेह सोड़ को ब्लॉक कर दिया गया। प्रदर्शनकारियों ने एक बोलेरो कार, 4 जीजल ऑटो और 2 टू व्हीलर्स को भी क्षति पहुंचाई। जेएसी ने हत्या की निंदा करते हुए इसे कोल्ड ब्लडेड  मर्डर करार दिया। उनका कहना है कि जब तक राजेश को बर्खास्त नहीं किया जाता और उसे फांसी की सजा नहीं दी जाती तब तक संतोष के शव को नहीं लेंगे।