मणिपुर के मुख्यमंत्री एन.बीरेन सिंह ने राज्य के विद्रोही समूहों को एक राजनीतिक हल निकालने के लिए वार्ता के लिए आमंत्रित किया। गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्यमंत्री ने मार्च 2017 में सत्ता में आने के बाद अपनी सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया।


उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार को समाप्त करने के लिए उन्होंने एक भ्रष्टाचार विरोधी प्रकोष्ठ अपने दफ्तर में स्थापित किया है। भ्रष्टाचार की 500 मिली शिकायतों में से 125 पर कार्रवाई की गई है।

मणिपुर में शैक्षिक व सांस्कृतिक समूहों व राज्य व केंद्रीय सुरक्षा बलों का प्रतिनिधित्व करने वाली 79 टुकड़ियों ने मार्च में भाग लिया। राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने मार्च की सलामी ली। आधिकारिक समारोह मणिपुर के एक पुराने महल कंगला में आयोजित किया गया था।