मणिपुर की राजधानी के बीचोबीच एक जोरदार आईईडी (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) विस्फोट (Manipur blast) हुआ है। हालांकि, इस विस्फोट में कोई हताहत नहीं हुआ है। पुलिस ने कहा कि इम्फाल शहर के तेलीपति में एक गोदाम के पास  जोरदार विस्फोट हुआ, जिससे डिपो के लोहे के शटर को नुकसान पहुंचा, जहां आलू और प्याज रखा हुआ था। वेयरहाउस का स्वामित्व राम नाथ साहू के पास है।

पुलिस ने बताया कि विस्फोट स्थल के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में दोपहिया वाहन पर आ रहे एक युवक को वहां एक पैकेट रखते देखा गया है। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों और त्वरित प्रतिक्रिया टीम ने अपराधियों को पकड़ने के लिए तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) के 4 जनवरी को राज्य के दौरे के मद्देनजर हाल ही में मणिपुर की राजधानी और राज्य के अन्य हिस्सों में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। बुधवार का आईईडी विस्फोट इंफाल (IED blast in Imphal) के पूर्वी जिले में 42 दिनों में तीसरा विस्फोट है। हालांकि, इन विस्फोटों के संबंध में अब तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है। साथ ही, किसी भी आतंकवादी संगठन या किसी विरोधी समूह ने अभी तक विस्फोटों की जिम्मेदारी नहीं ली है।

18 नवंबर और 15 दिसंबर को पहले की दो घटनाएं भी तड़के हुई थीं और इन विस्फोटों में कोई भी घायल नहीं हुआ था, हालांकि संपत्तियों को नुकसान पहुंचा था। सेना और असम राइफल्स (Assam Rifles) सहित सुरक्षा बल, घटनाओं के बाद हाई अलर्ट पर हैं, खासकर 13 नवंबर को इस क्षेत्र में हुए सबसे घातक आतंकी हमले के बाद, जिसमें म्यांमार की सीमा से लगे चुराचांदपुर जिले में असम राइफल्स (Assam Rifles) के कर्नल, उनकी पत्नी और बेटे और अर्ध-सैन्य बल के चार जवानों को मार गिराया गया था। मणिपुर में विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले, पूर्वोत्तर राज्य में उग्रवादी गतिविधियां बढ़ गई हैं, जिसके कारण अधिकारियों को सुरक्षा बलों को संवेदनशील इलाकों में निगरानी तेज करने के लिए कहना पड़ा है। बता दें 60 सीटों वाली मणिपुर विधानसभा (Manipur Assembly Elections) के लिए अगले साल फरवरी-मार्च में उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा के साथ चुनाव होने की संभावना है।