महाराष्‍ट्र के यवतमाल में एक हादसे में वहां के ‘रैंचो’ की मौत हो गई। दरअसल यवतमाल के रहने वाले शेख इस्‍माइल इब्राहिम को लोग प्‍यार से रैंचो कहते थे। वह बचपन से ही कबाड़ और जुगाड़ की चीजों से कुछ न कुछ नया बनाता था। अब उसने पूरी लगन के साथ हेलीकॉप्‍टर बनाया था। इसे वह स्‍वतंत्रता दिवस पर उड़ाना चाहता था। इससे पहले उसने उसकी ट्रायल उड़ान करनी चाही, लेकिन इस दौरान हादसे में उसकी मौत हो गई।

यह घटना महाराष्ट्र के यवतमाल जिले की है। महागांव तहसील के फुलसावंगी गांव का रहने वाले शेख इस्‍माइल उर्फ रैंचो की उम्र 24 साल थी। बचपन से वह जुगाड़ तकनीक में महारथी था। वह कबाड़ और अन्‍य चीजों से कुछ रोचक चीजें बनाता था। रैंचो ने अपनी ही वर्कशॉप में पूरी लगन के साथ एक हेलीकॉप्‍टर बनाया था। इसके लिए उसने रात दिन एक कर दिए थे। जब हेलीकॉप्‍टर पूरी तरह से बनकर तैयार हो गया तो इस्‍माइल उसे 15 अगस्‍त पर उड़ाना चाहता था। 

हालांकि इससे पहले उसने उसका परीक्षण करने की योजना बनाई थी। वह अपने हेलीकॉप्‍टर को मैदान में ले गया। इस दौरान बड़ी संख्‍या में लोग भी वहां इस हेलीकॉप्‍टर को उड़ता हुआ देखने के लिए मौजूद थे। इस्‍माइल ने हेलीकॉप्‍टर का इंजन स्‍टार्ट किया। वह उड़ान भरने को तैयार था तभी हेलीकॉप्‍टर का ब्‍लेड उसके सिर पर गिर गया। इससे उसकी मौत हेलीकॉप्‍टर के अंदर ही हो गई। गांववालों के अनुसार बचपन सें उसने चॉपर बनाकर उसमें बैठकर घूमने का सपना देखा था। उसका भाई वेल्डर था, इसके चलते वेल्डिंग का पूरा काम वह भी जानता था। उसने हेलीकॉप्‍टर बनाने के लिए जरूरी चीजें भी सीखी थीं।