असम से दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। तियोक के लागोईगढ़ इलाके में तीन लोगों ने एक शख्स को पीट पीट कर मार डाला। घटना शुक्रवार रात 8.30 बजे की है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक हत्या लागोईगढ़ पुलिस थाने के तहत आने वाले मेलेंग गयान गांव की है। पीडि़त की पहचान देबो बुरागोहेन के रूप में हुई है।

जब देबो बुरागोहेन एक व्यक्ति के साथ अपने घर लौट रहे थे तभी तीन लोगों ने उन पर हमला कर दिया। आरोपियों की पहचान प्रणब हतिबरुआ, मनोरंजन हातिबरुआ और सुभाष डे के रूप में हुई है। देबो और हमलावरों के बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई थी, इसके बाद तीनों हमलावरों ने देबो पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया। हमले में देबो गंभीर रूप से घायल हो गए।


बाद में उनकी मौके पर ही मौत हो गई। हमले के बाद तीनों आरोपी मौके से फरार हो गए। इस बीच ग्रामीणों का एक समूह घटनास्थल पर पहुंचा और मृतक की पहचान की। इसके बाद लोगों के बीच गुस्सा फैल गया। घटना से गुस्साए लोगों ने तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग करते हुए राष्ट्रीय राजमार्ग 7 को जाम कर दिया। करीब तीन घंटे तक राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों की आवाजाही बंद रही। इससे कम्यूनिकेशन बाधित हुआ। इसके बाद तियोक और जोरहाट पुलिस ने आरोपियों की धरपकड़ के लिए अभियान शुरू किया। तीनों को शनिवार को गिरफ्तार कर लिया गया।


आरोपियों के पास से वह हथियार भी बरामद कर लिया गया जिससे देबो पर हमला किया गया था। देबो के एक रिश्तेदार का कहना है कि वह बहुत ही शांत और साधारण व्यक्ति था। आरोपियों को फांसी की सजा होनी चाहिए। पीडि़त परिवार को मुआवजा मिलना चाहिए। आपको बता दें कि असम में पिछले दिनों हुई मॉब लिंचिंग की एक घटना राष्ट्रीय मीडिया की भी सुर्खियां बनी थी। कार्बी आंग्लोंग जिले में भीड़ ने दो युवकों को पीट पीट कर मार डाला था। इस मामले में असम पुलिस ने शनिवार को दिफु कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी। असम पुलिस ने करीब 800 पन्नों की चार्जशीट दाखिल की है। इस मामले में मास्टरमाइंड समेत 47 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। सभी को कोर्ट में पेश किया गया। कार्बी आंग्लोंग मके पंजुरी में लोगों ने निलोत्पल दास और अभिजीत नाथ को बच्चा चोर समझकर मार डाला था। घटना 8 जून की है।