पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए दो फेज की वोटिंग पूरी हो जाने के बाद अब नजरें तीसरे चरण पर टिक गई हैं। विभिन्न दल चुनाव प्रचार कर एक-दूसरे पर निशाना साध रहे हैं। इस बीच, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार को हावड़ा में रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी और अमित शाह पर खूब तीखे वार किए। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी के घर पर केंद्रीय जांच एजेंसियों को भिजवा रही है। ममता बनर्जी ने रैली में कहा, ''मोदी सिंडिकेट 1 और अमित शाह सिंडिकेट 2 हैं। वे अभिषेक के घर, सुदीप के घर और स्टालिन की बेटी के घर पर एजेंसियों को भिजवा रहे हैं। वे लगातार पुलिस अधिकारियों को भी बदल रहे हैं।''

पीएम मोदी और अमित शाह का साफ तौर पर नाम लिए बिना ही उन पर हमला बोलते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि गुजराती यूपी और बिहार से गुंडों को लाकर बंगाल में कब्जा जमाने की कोशिश कर रहे हैं। बनर्जी ने आरोप लगाया कि बीजेपी सांप्रदायिक अशांति पैदा करने की कोशिश कर रही है। ममता ने आगे कहा, ''बीजेपी किसानों को पैसा देने के मामले में बड़ी-बड़ी बातें कर रही है। मैंने केंद्र सरकार को लिस्ट भेजी है, लेकिन तब क्यों वे पैसा नहीं भेज रही?'' इससे एक दिन पहले बनर्जी ने साथ ही हिंदुओं से आग्रह किया था कि वे बीजेपी के साम्प्रदायिक झड़प भड़काने के प्रयासों से सावधान रहें। उन्होंने उनसे कहा कि वे उन बाहरियों से दूर रहें जिन्हें उनके क्षेत्रों में दिक्कत उत्पन्न करने के लिए भेजा गया है।

बीजेपी के उम्मीदवार और कभी ममता बनर्जी के काफी करीबी रहे शुभेंदु अधिकारी ने मुख्यमंत्री पर पलटवार किया है। उन्होंने ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक पर कोयला घोटाले का पैसा लेने का आरोप लगाया है। अधिकारी ने कोलकाता में कहा कि कोयला घोटाले में बंगाल की मुख्यमंत्री और राज्य सरकार के शामिल होने की बात सिद्ध हो चुकी है। 900 करोड़ रुपये की राशि ममता के भतीजे को दी गई है। वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी बंगाल में रैली को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बंगाल में बीजेपी सरकार बनने के साथ ही टीएमसी के गुंडों का हाल भी यूपी के गुंडों की ही तरह होगा। चुनाव परिणाम के बाद ये गुंडे अपने घुटनों पर होंगे। अगर दीदी फालतू भाषा का इस्तेमाल करती हैं, तो बंगाल के युवा उन्हें करारा जवाब देंगे।