बंगाल की ममता बनर्जी सरकार राज्य के मुख्य सचिव आलापन बंद्योपाध्याय का कार्यकाल बढ़ाना चाहती है. इसको लेकर राज्य सरकार ने केंद्र को मंगलवार को चिट्ठी लिखी है. राज्य के मुख्य सचिव आलापन बंद्योपाध्याय का कार्यकाल मई महीने में समाप्त हो रहा है. 

राज्य सरकार आलापन बंद्योपाध्याय का कार्यकाल आगे बढ़ाना चाहती है. इसको लेकर चिट्ठी लिखी गई है. दरअसल, राज्य सरकार आलापन बंद्योपाध्याय को छोड़ने के मूड में नहीं है. लिहाजा, उनके कार्यकाल को तीन महीने और बढ़ाने के लिए केंद्र की मोदी सरकार को चिट्ठी लिखी गई है.

राज्य सचिवालय नबान्न से मिली जानकारी के मुताबिक केंद्र के पास आवेदन किया गया है. राज्य सरकार का कहना है कि कोरोना संकट से जूझ रहे पश्चिम बंगाल में स्थिति को ठीक और सामान्य करने में आलापन बंद्योपाध्याय का अनुभव काफी काम आएगा. राज्य की नई सरकार का कहना है कि विभिन्न विभागों में सामंजस्य स्थापित करने में उनकी भूमिका काफी उपयोगी साबित होगी. इसको देखकर केंद्र सरकार की अनुमति हासिल करने के लिए चिट्ठी भेजी गई है.

साल 1987 बैच के आइएएस अधिकारी आलापन बंद्योपाध्याय इससे पहले राज्य के परिवहन विभाग, एमएसएमइ, गृह विभाग का दायित्व भी संभाल चुके हैं. पिछले साल सितंबर महीने में उन्हें मुख्य सचिव बनाया गया था. 

तृणमूल सरकार में वो विभिन्न दफ्तरों में सचिव भी रह चुके हैं. बतौर गृह सचिव और मुख्य सचिव उन्होंने कोरोना संकट से निपटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. ऐसे में अनुभवी अधिकारी के रिटायर होने पर राज्य सरकार को दिक्कत हो सकती है. यही कारण है कि उनका कार्यकाल और तीन महीने बढ़ाने के लिए राज्य सरकार ने आवेदन भेजा है.