पश्चिम बंगाल के बहुचर्चित नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए ममता बनर्जी सरकार के तीन मंत्रियों को गिरफ्तार कर लिया है।  इसके अलावा एक और अन्य नेता को भी गिरफ्तार किया गया है।  सीबीआई ने इस रिश्वतकांड के मामले में सोमवार को चार लोगों की गिरफ्तारी की है। 

अपने मंत्री और विधायकों की गिरफ्तारी के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बुरी तरह से बिफर गई है और उन्होंने विरोध में सीबीआई कार्यालय में डेरा डाल दिया है और विरोध प्रदर्शन कर रही है।  इस दौरान टीएमसी कार्यकर्ताओं की ओर से सीबीआई ऑफिस की ओर पत्थर भी फेंके गए।  स्थिति को काबू में करने के लिए केंद्रीय सुरक्षा बल के जवानों ने हल्का लाठीचार्ज भी किया।  इस बीच पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने ट्वीट करके मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को कानून व्यवस्था को नियंत्रित रखने की नसीहत दी है। 

गौरतलब है कि ममता सरकार में मंत्री सुब्रत मुखर्जी, शोभनदेव चट्टोपाध्याय, फिरहाद हकीम तथा विधायक मदन मित्रा को गिरफ्तार किया गया है।  सीबीआइ आज इन सभी आरोपियों को कोर्ट में पेश करेगी और इन सभी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करेगी।  गिरफ्तार किए गए तीनों मंत्री ही ममता बनर्जी के बेहद करीबी माने जाते हैं।  गौरतलब है कि बीते दिनों बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने नारद स्टिंग ऑपरेशन मामले में आरोपित तत्कालीन 4 विधायकों के खिलाफ सीबीआई को आरोपपत्र दाखिल करने की मंजूरी दे दी थी।  इधर चार विधायकों की गिरफ्तारी से बौखलाई मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सीबीआई दफ्तर पहुंच गई है और विरोध प्रदर्शन कर रही है। 

साल 2016 के विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी ने नारद स्टिंग ऑपरेशन का वीडियो जारी किया था।  इस वीडियो में दिखाया गया था कि सत्तारूढ़ पार्टी टीएमसी के कई बड़े नेता कैमरे के सामने घूस लेकर एक फर्जी कंपनी को कारोबार में मदद करने का आश्वासन देते नजर आए थे। 

टीएमसी के नेता एक फर्जी कंपनी के सीईओ बने नारद न्यूज़ पोर्टल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मैथ्यू सैमुअल द्वारा किए गए स्टिंग ऑपरेशन में हकीम का जो वीडियो सामने आया था, उसमें इन नेताओं को रुपए लेते दिखाया गया था।  नारद स्टिंग ऑपरेशन का वीडियो सामने आने के बाद पश्चिम बंगाल की सियासत में भूचाल आ गया था। बाद में इस मामले की जांच सीबीआई को दे दी गई थी। 

गौरतलब है कि नारद स्टिंग ऑपरेशन की जांच बीते 5 सालों से सीबीआई कर रही थी, लेकिन अभी तक इस मामले में कोई बड़ी गिरफ्तारी नहीं हुई थी. इस स्टिंग ऑपरेशन में टीएमसी के बड़े नेता मुकुल रॉय और शुभेंदु अधिकारी भी शामिल हैं, जो फिलहाल बीजेपी में शामिल हो चुके हैं।  शुभेंदु अधिकारी राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष हैं। ऐसे में TMC लगातार आरोप लगाती है कि इस मामले में भाजपा में शामिल हो चुके नेताओं पर सीबीआई कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है।