पीएम नरेंद्र मोदी को 30 मिनट इंतजार कराने का विवाद बढ़ गया है।  टीएमसी सुप्रीमो और सीएम ममता बनर्जी ने दावा किया है कि उनको इंतजार कराया गया था।  शनिवार को कोलकाता में पत्रकारों से बात करते हुए ममता बनर्जी ने दावा किया कि उन्हें पीएम मोदी से मुलाकात करने के लिए इंतजार करना पड़ा था।  

आज उन पर इंतजार कराने का आरोप लगाया जा रहा है।  वहीं, राज्य के मुख्य सचिव आलापन बंदोपाध्याय को केंद्र बुलाने पर भी ममता बनर्जी ने मोदी सरकार की खबर ली।  उन्होंने पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर बदले की राजनीति करने का आरोप लगाया। 

कोलकाता में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीएम ममता बनर्जी ने मुख्य सचिव आलापन बंदोपाध्याय को केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर बुलाने की बात पर भी अपनी राय रखी।  ममता बनर्जी ने सीधे-सीधे पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को लपेटे में लिया।  ममता बनर्जी ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार बदले की भावना से काम कर रही है।  उन्होंने आगे कहा कि यह जरूरी नहीं कि सीएम, पीएम को रिसीव करें।  उन्हें खुद पीएम की मीटिंग के लिए 20 मिनट तक इंतजार करना पड़ा था।  पीएम को हमारे शिड्यूल की जानकारी थी।  फिर भी उनका हेलिकॉप्टर उतरने तक उन्हें 20 मिनट का इंतजार करना पड़ा।  लेकिन, वो (नरेंद्र मोदी) पीएम हैं और उनकी सुरक्षा का मामला भी बनता है। 

 

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीएम ममता बनर्जी ने साफ किया कि उन्हें बैठक में शुभेंदु अधिकारी की मौजूदगी से कोई दिक्कत नहीं थी।  ऐसी बैठकें पीएम और सीएम के बीच होती हैं।  इसमें और कौन मौजूद होता है, इसे मुद्दा बनाना गलत है। ममता बनर्जी का कहना है कि वो सही से जानती हैं कि पीएम उनके राज्य में आए हैं तो शिष्टाचार भेंट जरूर करनी चाहिए।  वो भी पीएम की अनुमति लेकर मुलाकात करने गईं और कागजात सौंपकर लौंट गई।  क्योंकि, उनका चक्रवात यास प्रभावित इलाकों के दौरे का शिड्यूल फिक्स था. हम पीएम की अनुमति से ही उनसे मिलने गए।