पश्चिम बंगाल में हाल ही विधानसभा चुनाव संपन्न हुए हैं और परिणाम भी घोषित किए जा चुके हैं। ममता बनर्जी एक बार फिर से आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने वाली है। लेकिन सीएम की कुर्सी खतरों से भरी हुई है क्योंकि ममता बनर्जी को फिर से 6 महिने के भीतर किसी विधानसभा सीट से चुनाव जीतना होगा और संविधान अनुच्छेद 164(4) के तहत विधानसभा का विधायक होने के बाद ही ममता बनर्जी मुख्यमंत्री बन सकती है।  

इन सभी अटकलों के बीच असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने दावा किया कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा के बीच करीब 300-400 बीजेपी कार्यकर्ता और उनके परिवार के सदस्य भागकर पड़ोसी राज्य असम आ पहुंचे हैं। ममता बनर्जी का गुंडाराज बेहद ही खतरनाक है। इनके गुंडाराज के कारण बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिवार सहित अपनी जान बचाने के लिए असम आए हैं। हिमंता ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से लोकतंत्र को बदरूप होने से बचाने की अपील की है
असम के स्वास्थ्य एवं वित्त मंत्री हिमंता ने ट्वीट कर कहा कि '' एक दुखद घटनाक्रम में बंगाल भाजपा के 300-400 कार्यकर्ता और उनके परिवार के सदस्य घोर अत्याचार एवं हिंसा की मार के बाद असम के धुबरी पहुंच गए। हम उन सभी लोगों को आश्रय और भोजन दे रहे हैं। ममता दीदी को लोकतंत्र को बदरूप होने से बचाना चाहिए। बंगाल बेहतर का हकदार है ''।

बता दें कि पश्चिम बंगाल में व्यापक हिंसा में कथित रूप से बीजेपी के कई कार्यकर्ता हिंसक झड़प में मारे गए और कई घायल हो गए है। इसके साथ ही दुकानों में लूट की वारदातें भी सामने आ रही हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने विपक्षी कार्यकर्ताओं पर हमले की घटनाओं पर राज्य सरकार से तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी है।