भारतीय किसान अब नई-नई फसलें और तकनीकों में अपनी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। किसान अपनी खेती से ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए फसलों की नई प्रजातियों का भी उत्पादन कर रहे हैं। साथ ही सरकार भी किसानों की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए लगातार प्रयास कर रही है।

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के खजूरिकलां गांव के किसान मिश्री लाल ने अपने खेत में सामान्य भिंडी की बजाय लाल भिंडी उगाई हैं। जिसे देखने और इसकी खेती कैसे होती है इस बारे में जानकारी लेने दूर-दूर से किसान आ रहे हैं।

किसान मिश्री लाल का कहना है कि सामान्य भिंडी के मुकाबले लाल भिंडी की खेती में उन्हें ज्यादा फायदा हो रहा है। बाजार में सामान्य भिंडी ज्यादा से ज्यादा 50 रुपये किलो तक बिकती है। लेकिन लाल भिंडी के साथ फायदा ये है कि इसके भाव कभी-कभी 800 रुपये प्रति किलो तक भी पहुंच जाता है। उनका कहना है कि उनकी फसल की लागत काफी पहले निकल चुकी है और वह अब लाल इस फसल से शुद्ध मुनाफा कमा रहे हैं।
मिश्री लाल के मुताबिक लाल भिंडी उगाने का आइडिया उन्हें तब आया जब वह एक बार वाराणसी के पास केलाबेला में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ वेजिटेबल रिसर्च सेंटर गए। इस दौरान उन्होंने कृषि विशेषज्ञों से लाल भिंडी के आर्थिक और स्वास्थ्य फायदों के बारे जानकारी ली। मिश्री लाल ने 1 किलो लाल भिंडी के बीज खरीदे और अपने गांव आकर उसकी खेती शुरू कर दी और आज किसानों के लिए वे मिसाल बने हुए हैं।

लाल भिंडी में Anti Oxydent और Iron भरपूर पाया जाता है जो स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। इसका स्वाद भी सामान्य भिंडी से अलग है। आजकल स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों को देखते हुए लाल भिंडी को लोग हाथों हाथ ले रहे हैं। साथ ही लाल भिंडी को पकने में भी कम समय लगता है। इसके अलावा इसकी खेती में लागत भी सामान्य भिंडी के मुकाबले कम है, इसलिए मुनाफा भी ज्यादा है।