आम जनता को एक बार फिर से बड़ा झटका लग सकता है। क्योंकि अप्रैल से LPG गैस पर खाना बनाना और भी महंगा हो सकता है। दुनियाभर में गैस की भारी किल्लत हो गई है और अप्रैल से इसका असर भारत पर भी पड़ सकता है। इस वजह से यहां भी गैस की कीमतें दोगुनी हो सकती हैं।

यह भी पढें : बेहद स्टाइलिश होती है मणिपुरी ड्रेस इनाफी, ये खूबियां जानकर पहनने का करेगा मन

वैश्विक स्तर पर गैस की किल्लत होने से CNG, PNG और बिजली की कीमतें बढ़ जाएंगी। इसके साथ ही वाहन चलाने के साथ फैक्टरियों में उत्पादन की लागत भी बढ़ सकती है। सरकार के फर्टिलाइजर सब्सिडी बिल में भी इजाफा हो सकता है। कुल मिलाकर इन सबका असर आम उपभोक्ता पर ही पड़ने वाला है।

यह भी पढें : सिक्किम की सिंकी पीने के बाद भूल जाएंगे सारे सूप, जानिए कितनी स्वादिष्ट होती है

आपको बता दें कि रूस, यूरोप को गैस सप्‍लाई करने का एक बड़ा स्रोत है, यानी यूक्रेन संकट के कारण उस पर असर पड़ सकता है। वैश्विक अर्थव्यवस्था कोरोना महामारी के प्रकोप से बाहर जरूर निकल रही है। लेकिन दुनियाभर में ऊर्जा की बढ़ती मांग की वजह से इसकी आपूर्ति में कमी आ सकती है। यही वजह है कि गैस की कीमतों में काफी तेजी आई है।

यूक्रेन संकट का असर चौतरफा दिख रहा है। इसी के चलते अब गैस पर भी इसका असर पड़ सकता है। वैश्विक स्तर गैस की कमी का असर अप्रैल से दिखने लगेगा, जब सरकार नेचुरल गैस की घरेलू कीमतों में बदलाव करेगी।