पूर्वी सियांग जिले के अधीन मिरेम गांव में 14 जून को प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत 120 हितधारकों को निशुल्क रसोई गैस कनेक्शन दिया गया, जिसके बाद पूर्वी सियांग जिले का यह गांव धुंआ मुक्त गांव बन गया है। 

ये भी पढ़ेंः ...तो इस कारण से सिक्किम नहीं जा सके नायडू


आईओसी के अधिकारी सैयद एमएम हुसैन तथा पूर्व मंत्री तांगोर तापाक सहित स्थानीय लोगों की उपस्थिति में जिला उपायुक्त तामियो ताताक ने एक भव्य समारोह में मिरेम गांव को धुंआ मुक्त गांव घोषित किया। जिला उपायुक्त ताताक ने कहा कि इस योजना के तहत जिले के और भी कई गांव को धुंआ मुक्त गांव बनाने की कोशिश की जा रही है। साथ ही ताताक ने केंद्र तथा राज्य सरकार की तरफ से चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं के बारे में भी लोगों को बताया। प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के बारे में बताते हुए कहा कि इस योजना से महिलाओं को रसोई घर में होने वाली तकलीफों से राहत मिलने के साथ ही धुंए से होने वाली बीमारियों से भी मुक्ति मिल जाएगी। 

ये भी पढ़ें: भाजपा के इस राज्य में बारिश बनी तबाही, SDRF और NDRF की टीमों को किया गया तैनात


रसोई गैस कनेक्शन वितरण सभा को संबोधित करते हुए बिक्री अधिकारी सैयद एमएम हुसैन ने एलपीजी स्टोव के उपयोग के बारे में लोगों को समझाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना को गरीब महिलाओं के सम्मान के साथ जोड़ा जाएगा। इसलिए उज्ज्वला योजना के साथ महिलाओं को मिला सम्मान का नाम दिया गया। साथ ही उन्होंने किस तरह से सरकार की तरफ से मुफ्त में रसोई गैस दिया जाता है, इस विषय पर भी प्रकाश डाला। 

ये भी पढ़ेंः मिजोरम और अरुणाचल में दिल्ली से भेजे गए पुलिस अधिकारी, जानिए क्यों


पूर्व मंत्री तांगोर तापाक ने कहा कि पूर्व सियांग जिले के अधीन सबसे बड़े गांव मिरेम को आज धुंआ रहित गांव के रूप में घोषणा कर दी गई है। इस गांव में सौ प्रतिशत रसोई गैस कनेक्शन दिए गए हैं। पूर्व सियांग जिला से उज्ज्वला योजना के तहत पिछले दो महीने में कुल 2221 आवेदन प्राप्त हुए हैं और इनमें से 1650 लोगों को गैस कनेक्शन दिया जा चुका है।