मुंबई : जीएसटी ने मुंबई में लॉटरी व्यवसाय को बहुत नुकसान पहुंचाया है. 28 प्रतिशत जीएसटी के कारण  मुंबई में प्रतिदिन 50 करोड़ का कारोबार करने वाला लॉटरी टिकट का धंधा गिरकर सिर्फ 15 करोड़ पर सिमट गया है. हालात यह है, कि पहले मुंबई में 10 हजार लॉटरी स्टॉल्स थे, जो अब घटकर 4हजार रह गए हैं ।

इस लॉटरी के धंधे में पहले प्रत्येक लॉटरी ऑपरेटर प्रतिदिन हर ड्रॉ के बदले 1 लाख रुपये का टैक्स सरकार को देते थे, अब जीएसटी  के कारण हर टिकट पर 28% का टैक्स लगता है. 100 रुपये में मिलने वाला टिकट अब 128 रुपये का मिल रहा है. टिकट की कीमत बढ़ने के बावजूद जीत की राशि में कोई वृद्धि नहीं की गई,इस कारण लोगों का रुझान कम हो रहा है.इस व्यवसाय से जुड़े लोगों ने कहा कि खर्चा निकालना मुश्किल हो रहा है। 

उल्लेखनीय है कि बंद होते लॉटरी के कारोबारियों ने केंद्र सरकार से इस पर लगने वाले 28% की जीएसटी को कम करने की मांग की है. लोकप्रिय लॉटरी ड्रॉ चलाने वाली मिजोरम और नागालैंड की सरकार ने ऑनलाइन लॉटरी ड्रॉ पर लगने वाले 28 फीसदी जीएसटी को लेकर गुवाहाटी हाईकोर्ट मे अपील की। 

हाईकोर्ट ने इस आदेश पर स्थगन आदेश दिया है.बता दें कि अभी देश के 16 राज्यों ने लॉटरी को प्रतिबंधित किया हुआ है. लेकिन महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में अब भी लॉटरी जारी है.