देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान त्रिपुरा के आदिवासी बहुल इलाके में रहने वाले परिवारों को मिल रही सरकारी मदद नाकाफी साबित हो रही जिसके कारण कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ खतरे के बावजूद यहां बड़ी संख्या में लोग घरों से बाहर निकलने को मजबूर हो गये हैं।


मुख्य सचिव मनोज कुमार ने 16 अप्रैल को अधिसूचना जारी की जिसमें राज्य के सभी प्रमुख विभागों के कर्मचारियों को पूर्ण-कामकाज फिर से शुरू करने के लिए निर्देश दिये गये थे। जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह स्पष्ट किया था कि 20 अप्रैल तक लॉकडाउन में कोई ढिलाई नहीं देते हुए इसे और कड़ा किया जाएगा।


अधिसूचना की हो रही आलोचना के बीच मुख्यमंत्री ने रविवार रात एक सोशल मीडिया संदेश में कहा कि त्रिपुरा में तीन मई तक लॉकडाउन जारी रहेगा।