कोरोना लॉकडाउन के चलते व्यापार में जो गिरावट देखने को मिली है इससे पहले इतनी नहीं आंकी गई थी। अगर बात करें ऑटोमोबाइल की तो देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी की हालत बद से बदतर हो गई है। जानकारी के लिए बता दें कि 1983 के बाद से आज तक ऐसा पहली बार हुआ है कि जब कंपनी ने एक महीने में एक भी कार नहीं बेची हो।


सामान्य हालातों में कंपनी हर महीने करीब डेढ़ लाख कारें बनाती है लेकिन कोरोना महामारी ने अब पूरा काम ही चौपट कर दिया है। बता दें कि 25 मार्च से जारी इस लॉकडाउन के दौरान मारुति सुजुकी के सभी प्लांट्स बंद हो चुके थे। कारों का प्रोडक्शन एक दम ठप पड़ा है। लॉकडाउन के कारण सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी ने पिछले महीने एक भी कार नहीं बेची है।


कंपनी के अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि मार्च 2019 के आंकड़ों की तुलना में इस बार बिक्री के साथ 47.4 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। कोरोना जब चर्चे शुरू ही हुए थओ तभी इस बात का अंदाजा लगा लिया गया था कि अप्रैल के महीने में हालत और बुरे होने वाले हैं। मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड के चेयरमैन आर सी भार्गव ने बताया कि अप्रैल में शून्य बिक्री होने वाली है।