इस समय कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी फैल रहा है और माना जा रहा है कि जुलाई में यह और अधिक भयंकर रूप दिखाएगा। कोरोना के मरीजों का यह आंकड़ा जल्द ही एक लाख पार कर जाएगा। इस स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन को 31 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। हालांकि सरकार ने लॉकडाउन के सख्त नियमों में ढील भी दी है जिसकी वजह से इसके बढ़ने की आशंका है। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं वो तरीके जिनको अपनाकर आप लॉकडाउन 4.0 संक्रमण की चपेट में आने से बच सकते हैं।


हाथ धोते रहें
लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा काफी कम हो गया है। इसलिए हाइजीन से जुड़ी किसी भी बात को बिल्कुल भी नजरअंदाज ना करें और घर से बाहर निकलने के बाद जब भी वापस लौटें तो अपने हाथों को अल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर से अच्छी तरह धो लें और अपने कपड़ों को गर्म पानी में भिगोकर धुलें।सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें
आपको हर जगह सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना है लेकिन लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद लोगों की भीड़ सड़कों पर ज्यादा बढ़ेगी। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखना पड़ेगा। सब्जी की दुकान, मार्केट और अन्य जगहों पर जहां लोगों की भीड़ दिखे वहां सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करें और हो सके तो थोड़ी देर रुकें और भीड़ कम होने के बाद ही ऐसी जगहों पर जाएं।
अंगों को छूने से बचें
अपने मुंह, नाक और आंख को हाथों से छूने से बचें। दरअसल, लॉकडाउन में मिलने वाली छूट के कारण आप कई सारे ऐसे लोगों के संपर्क में आएंगे, जिन्हें सर्दी, जुकाम के लक्षण भी हो सकते हैं। ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आने के बाद यदि आपके हाथ पर ऐसे कोई भी वायरस मौजूद रहेगा तो वह मुंह, नाक और आंख को हाथों से छूने के जरिए बड़ी आसानी से आपको चपेट में ले सकता है।
हाथ सेनेटाइज करते रहें
31 मई तक बढ़ाए गए लॉकडाउन में कई ऐसे राज्य हैं जहां पर दफ्तर भी खोले जाने की बात की जा रही है। ऐसे में यदि आपका ऑफिस खुल जाता है तो आपको विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। ऑफिस जाने से पहले अपने बैग में हमेशा सैनिटाइजर रखें। हो सके तो ऑफिस में ग्लव्स को पहन कर रखें और किसी भी चीज को ग्लव्स पहने हुए हाथों से ही छुएं। माउथ मास्क को पहने रखें और कैंटीन आदि में करते हुए लोगों से दूर रहें।
लोगों से दूर रहें
जिन व्यक्तियों में आपको , जैसे गले में खराश, सूखी खांसी, बुखार, सिरदर्द, बोलने में दिक्कत होना, सांस लेने में तकलीफ दिखे उनसे दूर रहें। इतना ही नहीं, अगर आपको सर्दी-जुकाम या बुखार जैसे लक्षण हैं, तो घर से बाहर न निकलें और डॉक्टर की सलाह लें। इस बात का विशेष ध्यान दें कि भीड़ वाली जगह पर ऐसे लक्षण वाले लोग ज्यादा हो सकते हैं, जिनसे सतर्क रहने की ज्यादा जरूरत है।