अज्ञात हमलावरों ने शाम बोकाजान के खटखटी में प्राख्यात शराब कारोबारी मुलसिंह राठौर की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना को अंजाम देने के बाद संदिग्ध उग्रवादी घटनास्थल से भागने में कामयाब रहे। विशेष सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रात को करीब 8.30 बजे नकाबपोश तथा सेना की वर्दी में अत्याधुनिक हथियारों से लैस संदिग्ध उग्रवादियों का दल शराब कारोबारी राठौर के घर पर पहुंंच गया। लूट के इरादे से गए संदिग्ध उग्रवादियों ने बंदूक की नोक पर राठौर की पत्नी, बेटे व बहू को बंंधक बना लिया और घर में रखे आभूषण व नकदी रुपए समेटने लगे।

इसी बीच किसी तरह शराब कारोबारी के बेटे ने फोन पर अपने पिता को घटना की जानकारी दी। जैसे ही राठौर घर में प्रवेश किए ठिक उसी समय वहां मौजूद उग्रवादियों ने उन पर ताबड़तोड़ गोलियां दागने लगे और चंद मिनटों के बाद ही सभी घटनास्थल से फरार हो गए। गंभीर रूप से घायल अवस्था में उन्हें तत्काल डिमापुर स्थित एक निजी अस्पताल ले जाया गया। मगर अधिक खून बहने के चलते उनकी मौत हो गई। इधर कार्बी आंग्लोंग के पुलिस अधीक्षक गौरव उपाध्याय के अनुसार घटनास्थल से एके सीरीज रायफल के कई खाली कारतूस बरामद किए गए हैं। उन्होंने बताया कि हमलावर राठौर के लाइसेंसधारी पिस्तौल भी लेकर फरार हो गए।
हमलावर की तलाश में पुलिस ने जबर्दस्त अभियान छेड़ दिया है। उन्होंने कहा कि इस हादसे को सोची-समझी साजिश के तहत अंजाम दिया गया है। पुलिस के अनुसार इस मामले में कोई अंदर का व्यक्ति शामिल हो सकता है, जिसने सारी जानकारियां हमलावरों तक पहुंचाई है। पुलिस इस मामले में विभिन्न पहलुओं पर अपनी जांच जारी रखे हुई है। प्रारंभिक जांच में घटनास्थल से बरामद एके सीरीज राइफल के खाली कारतूस से पुलिस को संदेह है कि हमलावर नगा उग्रवादी हो सकते हैं। शराब कारोबारी का घर नगालैंड सीमा से कुछ किलोमीटर ही स्थित है। एेसे में संदेह जताया जा रहा है कि नगालैंड सीमा से प्रवेश कर उग्रवादियों ने इस वारदात को अंजाम दिया और पुनः लौट गए। हत्या की गुत्थी को सुलझाने के लिए समूचे जिले में पुलिस ने व्यापक अभियान छेड़ रखा है।