बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने कहा कि समाजवादी पार्टी (सपा) की तर्ज पर उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पंचायत चुनाव में सत्ता का दुरूपयोग कर रही है। मायावती ने शुक्रवार को ट्वीट किया 'यूपी पंचायत चुनाव में भाजपा द्वारा पहले जिला पंचायत अध्यक्ष व अब ब्लाक प्रमुख के चुनाव के दौरान भी सत्ता व धनबल का घोर दुरुपयोग व हिंसा आदि जो हो रही है वह सपा शासन की ऐसी अनेकों यादें ताजा कराता है। इसीलिए बीएसपी ने इन दोनों अप्रत्यक्ष चुनावों को नहीं लडऩे का फैसला लिया।'

उन्होने कहा कि अब यूपी विधानसभा का चुनाव निकट है तब भाजपा सरकार के विरूद्ध सपा जो जुबानी विरोध व आक्रामकता दिखा रही है वह घोर छलावा व अविश्वसनीय, क्योंकि इन्हीं सब सत्ता के दुरुपयोग व हर कीमत पर चुनाव जीतने आदि के लिए सपा का पूरा शासनकाल काफी चर्चाओं में रहा। जनता कुछ भी नहीं भूली।

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि बात-बात पर 'हल्लाबोल' के तेवर वाली सपा यहाँ के गरीबों, किसानों व बेरोजगारों आदि के अधिकारों तथा दलितों, पिछड़ों व मुस्लिम समाज के ऊपर यहाँ लगातार हो रहे अन्याय-अत्याचार व ङ्क्षहसा आदि पर अभी तक निष्क्रिय क्यों रही है। यह भी सोचने की बात है। गौरतलब है कि जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव के दौरान सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर सत्ता का दुरूपयोग और लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया था जबकि गुरूवार को ब्लाक प्रमुख के नामांकन के दौरान कई जिलों में सपा और भाजपा समर्थकों के बीच हिंसक झड़पें हुयी थी। बसपा ने खुद को पंचायत चुनाव से अलग रखा है।