ईंधन की कीमतों में भारी बढ़ोतरी के विरोध में कांग्रेस और वाम पार्टियों द्वारा सोमवार को आहूत भारत बंद से राज्य में सामान्य जन-जीवन प्रभावित रहा। इस दौरान शिक्षण संस्थान बंद रहे और कार्यालयों में बहुत कम लोग उपस्थित रहे।


कांग्रेस सांसद ने कहा, 'हम पेट्रॉल, डीजल और अन्य जरूरी वस्तुओं की मूल्य बढ़ोतरी का विरोध कर रहे हैं। सरकार को ये कीमतें कम करने के लिए जरूरी कदम उठाने चाहिए।'


कांग्रेस नेता पी. सरतचंद्र ने कहा, 'भाजपा कहती है कि वह गरीब लोगों से प्यार करती है। लेकिन वह कीमतें बढ़ा रही है। पुलिस हड़ताल को अवैध बताते हुए हमें खदेडऩे का प्रयास कर रही है। राष्ट्रीय जनतांत्रिक (राजग) सरकार जनता पर जुल्म कर रही है।'


पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान में विपक्ष के नेता ओकराम इबोबी ने इंफाल में पार्टी के विधायकों और कार्यकर्ताओं की रैली की अगुआई की। शहर में और कई अन्य जिलों में सभी बाजार बंद रहे।


इस दौरान सभी वाणिज्यिक वाहन बंद रहे। कई स्थानों पर पुरुष, महिलाएं सड़कों पर आए व टायर जलाए और सड़क यातायात पूरी तरह बंद कर दिया। कई स्थानों पर पुलिस और कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के बीच झड़प देखी गई।


दूसरे राज्यों से आए लोग यहां स्टेशनों के साथ-साथ राजमार्गों पर फंस गए क्योंकि बसें शहरों में प्रवेश नहीं कर पा रही थीं। ईंधन और अन्य जरूरी सामान ले जा रहे ट्रक भी रास्ते में फंस गए।