श्रीनगर। पीपुल्स अलायंस फॉर गुप्कर डिक्लेरेशन (पीएजीडी) ने बुधवार को कहा कि अलगाववादी नेता यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा 'दुर्भाग्यपूर्ण' है और इससे प्रदेश में शांति के प्रयासों को 'झटका' लगा है। 

ये भी पढ़ेंः 2 हजार से ज्यादा राजनीतिक दलों पर बड़ा एक्शन लेने की तैयारी में चुनाव आयोग, जानें पूरा मामला

पीएजीडी के प्रवक्ता मोहम्मद युसूफ तरगामी ने एक बयान जारी कर कहा, 'हमें डर है कि इससे क्षेत्र में अशांति फैलेगी तथा अलगाव एवं अलगाववादी भावनाओं को और बढ़ावा मिलेगा।' उन्होंने कहा, 'राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की अदालत ने अपना फैसला तो सुना दिया, लेकिन न्याय नहीं किया।'

ये भी पढ़ेंः BJP नेता ने ओवैसी को दी चुनौती, कहा - सभी मस्जिदों की करो खुदाई, शिवलिंग मिले तो हमारा और शव मिले तो तुम्हारा


उन्होंने कहा, 'भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और कॉरपोरेट मीडिया द्वारा प्रदर्शित किया जा रहा विजयवाद उल्टा साबित होगा।' पीएजीडी ने मलिक को इस फैसले को चुनौती देने के लिए सभी कानूनी अवसरों का उपयोग करने का सुझाव दिया है। उल्लेखनीय है कि पीएजीडी का नेतृत्व नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला कर रहे हैं और वे जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा वापस चाहते हैं।