केरल में सत्तारूढ़ वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) को इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों में सबसे अधिक वोट मिलने का अनुमान है। ये खुलासा आईएएनएस सी-वोटर के राज्यों के सर्वेक्षण से हुआ है। सर्वेक्षण में केरल के सभी 140 विधानसभा क्षेत्रों के 6,000 उत्तरदाताओं को शामिल किया गया।

सर्वेे के अनुसार, एलडीएफ को 42.6 फीसदी वोट मिलने का अनुमान है, जो पिछले विधानसभा चुनावों की तुलना में 1.9 फीसदी कम है। सर्वेक्षण में कहा गया है कि कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) को आगामी विधानसभा चुनावों में 34.6 प्रतिशत वोट शेयर रहने का अनुमान है, जो पिछले विधानसभा चुनावों की तुलना में 4.2 प्रतिशत अधिक है।

भाजपा, जिसे 2016 के विधानसभा चुनावों में 14.9 प्रतिशत वोट मिले थे, उसे 15.3 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान है, जो 0.4 प्रतिशत अधिक है। सर्वेक्षण के अनुसार, अन्य पार्टियों को 8.5 प्रतिशत वोट मिलेंगे, पिछले चुनावों की तुलना में 5.7 प्रतिशत अधिक। सर्वेक्षण ने बताया है कि एलडीएफ गठबंधन को आगामी विधानसभा में 85 सीटें मिलेंगी, 2016 में प्रबंधित 91 की तुलना में छह कम। यूडीएफ गठबंधन, जिसने 2016 में 47 सीटें हासिल की थीं, को इस बार 53 सीटें मिलने का अनुमान है। बीजेपी गठबंधन को एक सीट जीतने का अनुमान है।