बिहार में नीतीश कुमार की नई महागठबंधन सरकार के विवाद खत्म होने का नाम नहीं ले रहे हैं। पहले उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के करीबी संजय यादव स्वास्थ्य विभाग की आधिकारिक बैठक में नजर आए, जबकि उनके पास कोई सरकारी पद नहीं है। वहीं वन एवं पर्यावरण मंत्री तेज प्रताप यादव के साथ विभागीय बैठक में उनके जीजा शैलेश कुमार के नजर आने पर भी विवाद उठा।

ये भी पढ़ेंः कश्मीर मुद्दे पर फिर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कह दी ऐसी बड़ी बात


दरअसल, मंत्री तेज प्रताप यादव बिहार प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के ऑफिस पहुंचे थे। उन्होंने अधिकारियों के साथ मीटिंग की। इसमें शैलेश कुमार भी बैठे नजर आए। वे कुछ अफसरों से बात भी करते दिखे। इस बैठक की तस्वीर बाहर आते ही विवाद बढ़ गया। विपक्ष कह रहा है कि बोर्ड की मीटिंग में लालू प्रसाद के बड़े दामाद कैसे बैठे थे? यह तो मंत्री ही बता सकते हैं? अगर तेज प्रताप यादव ने अपने बहनोई शैलेश कुमार को अपना निजी सचिव रख लिया है तो वह बैठक में शामिल हो सकते हैं, लेकिन यह बात अब तक सामने नहीं आई है।

ये भी पढ़ेंः Petrol-Diesel Price Today: पेट्रोल-डीजल पर राहत बरकरार, जानें आज की कीमतें


भाजपा प्रवक्ता निखिल आनंद ने इस कारनामे पर तंज कसते हुए कहा है कि बिहार के वन एवं पर्यावरण मंत्री तेज प्रताप यादव को कोई हल्के में ना ले। हमारे भाई शैलेशजी भी साथ बैठे हैं। मेरा दावा है कि राजद के सभी मंत्रियों से शैलेशजी ज्यादा समझदार- ज्ञानी- टैलेंटेड जरूर हैं। शैलेश भाई का आशीर्वाद रहा तो तेज प्रताप सबसे बेस्ट मिनिस्टर साबित होंगे।