एम्स दिल्ली द्वारा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद को भर्ती करने से इनकार करने के बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने प्रमुख अस्पताल के कृत्य की कड़ी निंदा की और कहा कि इसके पीछे एक साजिश थी। मनेर से राजद विधायक और पार्टी के मुख्य प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने कहा, यह हमारे नेता लालू प्रसाद यादव को आपातकालीन वार्ड से छुट्टी देने और उन्हें आगे के इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करने से इनकार करने के लिए एक सुनियोजित साजिश है।

ये भी पढ़ेंः मुस्लिम आइलैंड पर मिनी बिकिनी पहनना पड़ा भारी, लोगों ने मॉडल का किया ऐसा हाल, देखें वीडियो


भाई वीरेंद्र ने कहा, हमारे नेता कई बीमारियों से पीडि़त हैं और राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (रिम्स) रांची के मेडिकल बोर्ड ने उन्हें एम्स दिल्ली में इलाज के लिए रेफर कर दिया है। मुझे नहीं पता कि वे लोग कौन हैं, जो एक विशेष नेता के साथ राजनीति कर रहे हैं। लोग देश उन्हें माफ नहीं करेगा। मंगलवार को लालू प्रसाद की तबीयत बिगड़ गई। इसलिए रांची के रिम्स प्रशासन ने मेडिकल बोर्ड बनाकर उन्हें बेहतर इलाज के लिए दिल्ली भेजने का फैसला किया।

ये भी पढ़ेंः शराब पीकर धुत हुए दो दोस्त, एक दूसरे को पीटना किया शुरू, मौत


लालू प्रसाद एयर एंबुलेंस से दिल्ली पहुंचे। उन्हें मंगलवार रात एम्स दिल्ली के आपातकालीन वार्ड में निगरानी में रखा गया और बुधवार को सुबह 4 बजे छुट्टी दे दी गई। सूत्रों ने कहा कि उनके चार्टर्ड फ्लाइट से रांची लौटने की उम्मीद थी, जो बुधवार को दोपहर 3 बजे दिल्ली से उड़ान भरेगी। रिम्स के मेडिकल बोर्ड के अध्यक्ष डॉ विद्यापति ने रांची में मीडियाकर्मियों को बताया कि लालू प्रसाद को ब्लड प्रेशर की समस्या के अलावा किडनी फेल होने और हाई डायबिटीज के साथ शुगर लेवल 270 लेवल (बहुत ज्यादा) तक पहुंच गया था। डॉक्टर ने कहा कि उन्हें दिल से जुड़ी समस्याएं भी हैं। बता दें कि चारा घोटाले में डोरंडा कोषागार से 139.5 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के मामले में लालू प्रसाद को दोषी ठहराया गया है। उनकी जमानत याचिका हाल ही में सीबीआई की विशेष अदालत ने खारिज कर दी थी। इसलिए वह जेल में बंद थे। स्वास्थ्य के आधार पर उन्हें रिम्स रांची के विशेष वार्ड में डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया है।