उत्तरप्रदेश का एक खास किस्म के अमरूद का जाूद इन दिनों लोगों सिर चढ़कर बोल रहा है। इस अमरूद को 'ललित' कहा जाता है जो अपने लाल गूदे की वजह से मशहूर हो रहा है। यह अमरूद इन दिनों अरुणाचल प्रदेश के लोगों को काफी भा रहा है। आपको बता दें कि जैसे ही अधिक ठंड से किन्नौर का सेब लाल होने के साथ स्वादिष्ट हो जाता है ठीक उसी प्रकार अरुणाचल के याचुली में लगे ललित अमरूद के पेड़ लाल और मीठा फल दे रहे हैं। इन अमरूदों को देखकर एकबार तो भ्रम हो जाता है कि ये अमरूद हैं या सेब। ललित अमरूद के उत्पादन को लेकर अरुणाचल के डिप्टी सीएम ने किसानों से राज्य में इसके व्यावसायिक उत्पादन की सलाह दी है। साथ ही, मुख्य सचिव नरेश कुमार ने किसानों को पत्र लिख कर प्रदेश में ललित के एक बड़े उत्पादक क्षेत्र को विकसित करने का सुझाव दिया। 

इस बेहद ही स्वादिष्ट और अनोखे अमरूद के एक लाख पौधे लगाने की महत्वाकांक्षी योजना की शुरुआत याचुली के किसानों की थी। हालांकि  5500 फुट ऊंची उबड़-खाबड़ पथरीली पहाड़ी जमीन में इस अमरूद की खेती आसान नहीं थी। उस जमीन में पेड़ लगाना तो दूर, गड्ढा खोदना एक महंगा और मुश्किल काम है। लेकिन इन किसानों ने अपनी मेहनत से यह कर दिखाया जो काफी प्रसिद्ध हो रहा हैं

बताया गया है कि अरुणाचल की परिस्थितियों में किस्मों का परीक्षण करने के लिए ललित के साथ वहां श्वेता, लालिमा, इलाहाबाद सफेदा, लखनऊ-49 (सरदार) जैसी किस्मों के हजारों पौधे लगाए गए हैं। हालांकि ललित अमरूद एक दोहरे उपयोग वाली किस्म है। यह प्रसंस्करण के लिए उपयोग की जाने वाली एक प्रमुख किस्म है। ललित अमरूद का गुलाबी गूदा विभिन्न उत्पादों जैसे पल्प, आरटीएस, चमकदार जेली और साइडर बनाने के लिए अत्यधिक उपयुक्त है। ललित पोषक तत्वों के साथ स्वास्थवर्धक गुणों से भरपूर किस्म है।

अब हम twitter पर भी उपलब्ध हैं। ताजा एवं बेहतरीन खबरों के लिए Follow करें हमारा पेज : https://twitter.com/dailynews360