देश में ज्यादातर ऑटो चालक पुरुष हैं। ऐसे में किसी महिला को गाड़ी चलाते देख सब हैरान हो जाते हैं। मगर परिवार की जिम्मेदारी उठाने और खुद को दुनिया के सामने साबित करने की मिसाल लाइबी ओइनम ने पेश की है। 40 साल की उम्र में ऑटो चलाने वाली मणिपुर की वह पहली महिला ऑटो ड्राइवर बन गईं हैं।

ओइनम पहले ईंट भट्टे में काम करती थीं। मगर पूरे परिवार का खर्चा उठाने के लिए ये पर्याप्त नहीं था। उन पर मुसीबतों का पहाड़ उस वक्त टूटा जब उनके पति को रेअर डायबिटीज की बीमारी हो गई। ऐसे में उन्हें बेड रेस्ट की सलाह दी गई। इस हालात में गृहस्थी चलाने के लिए ओइनम ने एक प्री पेड ऑटो खरीदा और इसे किराये पर चलाने को दे दिया।

ड्राइवरों की ओर से लगातार किए जा रहे नुकसान के चलते ओइनम को आर्थिक परेशानी होने लगी। ऐसे में उन्होंने खुद ही ऑटो चलाने का फैसला किया। लाइबी ओइनम के मुताबिक जब वो पहले वर्दी पहनकर ऑटो स्टैंड जाती थीं तब लोग उनका मजाक उड़ाते थे। मगर उनके हौंसले को देख अब लोग उनका सम्मान करते हैं।