पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीन के साथ कई इलाकों में गतिरोध लगातार बरकरार है। इस बीच एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जो दुश्मनों को डरा देगी। चीनी सैनिकों को करारा जवाब देने के लिए स्पेशल फोर्स के जवानों को बेहद खास हथियार के साथ तैनात किया गया है। ये सैनिक फॉरवर्ड बेस पर तैनात हैं। बता दें कि भारत को चीन के बाद पिछले साल जून में गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद से तनाव लगातार बरकरार है। दोनों पक्षों के बीच लगातार बातचीत हो रही है। कुछ इलाकों में सेना की वापसी भी हुई है। लेकिन अब भी कई प्वाइंटस पर तनाव बरकरार है।

ये एक ऐसी तस्वीर है जो आपको जोश से भर देगी। पहाड़ों की चोटियों के बीच एक हेलीकॉप्टर खड़ा है। ठीक उसके सामने देश के बहादुर सैनिक खड़े हैं। इनके हाथों में नेगेव लाइट मशीन गन, टेवर-21 और एके-47 असॉल्ट राइफल हैं। गरुड़ स्पेशल फोर्स के जवानों को फॉरवर्ड पोस्ट पर तैनात किया गया है जो दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार हैं।

बता दें कि पिछले हफ्ते भारतीय और चीनी सेनाओं ने पूर्वी लद्दाख में लंबित मुद्दों को 'तेजी' से हल करने पर सहमति जतायी थी। 12वें दौर की सैन्य स्तर की वार्ता को 'रचनात्मक' करार दिया। भारतीय सेना की ओर से जारी संयुक्त बयान में कहा गया कि दोनों पक्षों के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास भारत-चीन सीमा क्षेत्र के पश्चिमी सेक्टर से सैनिकों की वापसी के संबंध में 'विचार साझा किए गए।

उधर पूर्वी लद्दाख में गोगरा टकराव बिंदु पर करीब 15 महीनों तक आमने-सामने रहने के बाद भारत और चीन की सेनाओं ने अपने-अपने सैनिकों को पीछे हटाने की प्रक्रिया पूरी कर ली। थल सेना ने इस घटनाक्रम की घोषणा करते हुए कहा कि सैनिकों को पीछे हटाने की प्रक्रिया चार और पांच अगस्त को की गई।