हैदराबाद के जवाहरनगर पुलिस ने शुक्रवार को फर्जी RT-PCR रिपोर्ट देने के आरोप में एक लैब टेक्नीशियन को गिरफ्तार किया है। जवाहरनगर पुलिस के अनुसार, हैदराबाद के किसिरा इलाके में पेट शॉप चलाने वाले सुनील कुमार को एक महीने पहले अपने परिवार के सभी सदस्यों में कोविड के लक्षण दिखाई दिए थे, जिसे लेकर उन्होंने अपने एक पहचान के लैब टेक्नीशियन किरण कुमार (26) को अपने घर बुलाकर कोरोना का RT-PCR टेस्ट करवाया था।

नाचारम इलाके के रहने वाले किरण कुमार को सुनील कुमार पिछले छह सालों से जानते थे। किरण ने मई महीने के पहले हफ्ते में सुनील के घर आकर परिवार के सभी सदस्यों के सैंपल्स ले लिए थे और फिर किसी प्राइवेट लैब की रिपोर्ट लाकर उन्हें दी, जिसमें सुनील को कोविड पॉजिटिव और बाकी सभी को नेगेटिव बताया गया, लेकिन सुनील की पत्नी और बच्चों में कोविड के लक्षण दिखाई दे रहे थे। सुनील ने किरण को बुलाकर दोबारा कोविड का RT-PCR टेस्ट कराया, जिसमें रिपोर्ट पॉजिटिव दिखाई गई।

सुनील की पत्नी नागालक्ष्मी को पेट में दर्द था, जिस कारण किरण किसी डॉक्टर को घर लेकर आया था और नागालक्ष्मी के ब्लड का सैंपल ले गया, जिसके लिए किरण ने सुनील से 7,500 रु भी लिए थे। सुनील का पूरा परिवार होम क्वारंटीन में था। पिछले हफ्ते फिर किरण को बुलाकर पूरे परिवार का टेस्ट कराया गया, जिसमें किरण ने सभी की नेगेटिव रिपोर्ट दी।

किरण ने RT-PCR टेस्ट के लिए हर एक व्यक्ति के लिए 1,000 रु वसूले थे। उसने सुनील से RT-PCR टेस्ट और ब्लड टेस्ट के नाम पर 18,500 रु वसूल किए थे। वहीं, जब सुनील ने उस प्राइवेट अस्पताल में कॉल करके टेस्ट के बारे में पूछा, तो अस्पताल ने बताया कि सुनील के परिवार का कोई सैम्पल यहां नहीं आया था, जिसके बाद किरण की फर्जीवाड़े का राज खुल गया। पुलिस ने किरण के खिलाफ फर्जीवाड़े का मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।