हरिद्वारा में लग रहे कुंभ मेला और देश में कोरोना वायरस का आतंक दोनों के बीच तगड़ी भिंड़त ने सरकारों की हालात पतली कर दी है। देश में कोरोना तेजी से फैलता ही जा रहा है। बेकाबू कोरोना केंद्र सरकार की हालात खराब कर रहा है। इसी कड़ी में कुंभ मेला आग में घी डालने का काम कर रहा है। कुंभ मेले में हाल ही में 1000 से ज्यादा भक्त कोरोना पॉजिटिव मिले हैं।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की हरिद्वार में आयोजित कुंभ मेले टेंशन बढ़ा दी है। लाखों श्रद्धालुओं के एक जगह पर इकट्ठा हो रहे हैं। इनसे कोरोना का प्रोटोकॉल रखने के लिए कहा गया है लेकिन प्रोटोकॉल की मेले मे धज्जियां उड़ाई जा रही है। गंगा नदी के तट पर लाखों भक्तों के जमावड़े का बचाव करते हुए सीएम तीरथ सिंह रावत ने कहा कि कुंभ मेले की तुलना नई दिल्ली में पिछले साल आयोजित मरकज कार्यक्रम से नहीं की जा सकती।


मतलब कि मरकज एक बंद स्थान पर आयोजित किया गया था, जबकि कुंभ मेला गंगा नदी के विशाल घाटों पर खुले में आयोजित किया जा रहा है। रावत ने कहा कि “कुंभ में शामिल होने वाले श्रद्धालु बाहर के नहीं बल्कि हमारे अपने लोग हैं। हरिद्वार में 1,000 से अधिक कोरोना सकारात्मक रिपोर्ट आई है। महाकुंभ पर्व पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ गंगा नदी में डुबकी लगाने के 48 घंटे बाद 19 मामले सामने आए है।