असम NRC की फाइनल लिस्ट का असर इससे सटे दूसरे राज्यों पर भी देखा जा रहा है। असम से सटे राज्य मेघालय में इसको लेकर कड़े कदम उठाए जा रहे हैं। गौरतलब है कि इस लिस्ट से 19 लाख लोगों को बाहर कर दिया गया है। इसी के मद्देनजर अपनी राज्य में अवैध घुसपैठियों को रोकने के लिए मेघालय की खासी स्टूडेंट यूनियन (KSU) ने अपने राज्य की सीमाओं में चेक प्वॉइंट्स लगा दिए हैं। इस संगठन ने राज्य सरकार से भी इन लोगों यहां पर घुसने से रोकने के लिए उचित कदम उठाने की मांग की है।

खासी स्टूडेंट यूनियन ने मेघालय में असम से सटी सीमा पर रि बोही जिले के बिरनीहाट, पूर्वी जयंतियां हिल्स में उमतिरा तथा मालीदोर में तीन जगहों पर चेक प्वॉइंट्स लगा दिए हैं ताकि बाहरी व्यक्ति राज्य में दाखिल न हो सके। KSU के जनरल सेक्रेटरी डोराल्ड वी थबाह ने इस बारे में सरकार से मांग की है कि इंटर स्टेट बॉर्डर के जरिए अवैध घुसपैठियों को आने से रोका जाए।

थबाह ने कहा कि मेघालय और असम की आपस से लगती हुई सीमा लगभग 900 किलोमीटर लंबी है। उन्होंने कहा कि असम एनआरसी से 19 लाख लोग बाहर हुए हैं ऐसे में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बिना अवैध घुसपैठिए यहां घुस सकते हैं। इसके अलावा इस स्टूडेंट बॉडी ने बोरबार शनोंग्स, सेंग सेमला तथा गांव की डिफेंस पार्टियों को भी इस बारे में सतर्क रहने के लिए कहा है।

KSU ने यह भी मांग की है कि असम तरह ही मेघालय में NRC जैसी प्रक्रिया अपनाई जाए ताकि यहां पर पहले से रह रहे घुसपैठियों की पहचान करके उन्हें बाहर निकाला जा सके। इस संगठन के एक नेता ने दावा किया है लगभग 20 लोग बिना वैध दस्तावेजों के रि भोई जिले में घुसने का प्रयास कर रहे थे जिनको रोक कर वापस भेजा गया।