केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने शारदा चिट फंड घोटाले के सिलसिले में कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार से आठ घंटे तक पूछताछ की। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार सीबीआई के भ्रष्टाचार निरोधक शाखा की 10 सदस्यीय टीम ने शनिवार को यहां सीबीआई कार्यालय में कुमार से आठ घंटे तक पूछताछ की।


सीबीआई की टीम घोटाले के सिलसिले में श्री कुमार और तृणमूल सांसद कुणाल घोष से रविवार को भी सीबीआई कार्यालय में पूछताछ करेगी। तृणमूल सांसद को शारदा चिट फंड घोटाले के आरोप में 23 नवंबर 2013 को गिरफ्तार किया गया था।


कलकता उच्च न्यायालय ने घोष को वर्ष 2016 में दो लाख रुपए के मुचलके पर अंतरिम जमानत दी थी। सूत्रों के अनुसार कुमार 10 बजकर 45 मिनट पर सीबीआई कार्यालय पहुंचे जहां सीबीआई टीम ने उनसे पूछताछ की। कोलकाता पुलिस आयुक्त ने आठ घंटे की पूछताछ में सीबीआई की टीम का सहयोग किया।


कुमार के वकील विश्वजीत देव ने पत्रकारों को कहा, 'सहयोग न करने का सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने पहले भी सहयोग किया है और अब भी सहयोग कर रहे हैं। हम उच्चतम न्यायालय के आदेश के कारण यहां हैं।'


उच्चतम न्यायालयन ने मंगलवार को अपने आदेश में कहा था कि कोलकाता पुलिस आयुक्त जांच में सीबीआई के साथ सहयोग करें और शिलांग में सीबीआई के सामने पेश हो। इसके बाद श्री कुमार शुक्रवार की शाम को ही शिलांग में पहुंच गये थे।


सीबीआई ने उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करते हुए गुरुवार को मामले की जांच के लिए 10 सदस्यीय टीम का गठन किया और नौ फरवरी को कोलकाता पुलिस आयुक्त को शिलांग में सीबीआई के समक्ष पेश होने के लिए समन किया था।


उच्चतम न्यायालय ने मंगलवार को कोलकाता पुलिस आयुक्त को जांच में सीबीआई के साथ सहयोग करने का निर्देश दिया था। इससे 48 घंटे पहले सीबीआई की टीम को कोलकाता पुलिस आयुक्त के आवास में घुसने के रोक दिया गया था। कुमार शुक्रवार को तीन अन्य आईपीएस अधिकारियों अतिरिक्त पुलिस आयुक्त जावेद शमिम, जिलाधीश मुरलीधर शर्मा, सीआईडी प्रमुख प्रवीण त्रिपाठी और मिजोरम के महाधिवक्ता विश्वजीत देव के साथ शिलांग पहुंचे थे।