बोडोलैंड प्रांतीय परिषद (बीटीसी) के प्रमुख हग्रमा मोहिलरी ने असम में कोकराझार के सांसद एवं पूर्व उग्रवादी नेता नाबा (हीरा) सरानिया पर मतदाताओं को अपने पक्ष में करने के लिए हथियार और शक्ति का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है। यह आरोप ऐसे समय लगाया गया जब लोकसभा चुनाव में एक वर्ष से कम समय रह गया है। 

मोहिलरी ने यहां एक सरकारी कार्यक्रम में मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल एवं अन्य गणमान्य के समक्ष यह आरोप लगाया। मोहिलरी ने आरोप लगाया कि श्री सरानिया बोडो और गैर-बोडो के बीच मतभेद पैदा करना चाहते हैं और यह षडयंत्र कथित रूप से चुनाव जीतने के लिए रचा, लेकिन वह अगले वर्ष सफल नहीं होंगे। वह गैर बोडो हैं और कोकराझार से 2014 में स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में चुनाव में जीत हासिल की थी। 

बीटीसी के प्रमुख ने सरानिया के इन आरोपों को खारिज किया कि वह विकास के लिए आवंटित धन का इस्तेमाल हथियार खरीदने में करते हैं। मोहिलरी ने कहा कि सरानिया के निकट सहयोगी को मंगलवार को हथियार के साथ गिरफ्तार किया गया। उन्होंने जिला पुलिस प्रशासन ने आग्रह किया ऐसे अपराधिक तत्वों से सख्ती से निपटें। मोहिलरी ने यह भी आरोप लगाया कि सरानिया के सहयोगी रात में लोगों को धमकाते हैं। वह लोगों को धमकाने के लिए हथियार और शक्ति के प्रयोग का तरीका अपनाते हैं, लेकिन वह 2019 का चुनाव नहीं जीत पायेंगे।