देश के किसानों के लिए खुशखबरी है। उनको अब Whatsapp के जरिए जानकारी मिलेगी कि फसल में कब और कितना खाद-पानी देना है।मौसम विभाग मौसम के साप्ताहिक पूर्वानुमान के आधार पर Whatsapp के जरिए यह बताएगा कि किसानों को किस फसल को कब कितना खाद और पानी देना है ताकि उत्पादन बढ़ाया जा सके। कृषि मौसम विज्ञान इकाई के प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. रंजीत सिंह ने बताया कि विभाग की कृषि मौसम विज्ञान इकाई ने जिला और ब्लॉक स्तर पर देश के सभी 633 जिलों में किसानों के लिए ‘ग्रामीण कृषि मौसम सेवा' शुरू करने की प्रक्रिया शुरू की है। इसके पहले चरण में देश के 115 जिलों में यह सेवा शुरू की गई है।

किसानों को विभाग अभी मोबाइल फोन पर एसएमएस के जरिए सिर्फ उनके क्षेत्र में अगले चार पांच दिनों में हवा की गति, संभावित बारिश की मात्रा और ओलावृष्टि जैसी जरूरी जानकारियां दे रहा है। इस सेवा से देश के लगभग 4 करोड़ किसान जुड़ चुके हैं।

इस योजना में किसान विकास केन्द्रों में मौसम और कृषि क्षेत्र के 2 विशेषज्ञों को तैनात किया गया है। ये केन्द्र सभी जिलों में ब्लॉक और गांव के स्तर पर किसानों के व्हाट्सएप ग्रुप बना कर सप्ताह में 2 दिन (मंगलवार और शुक्रवार) स्थानीय स्तर पर मौसम की जानकारी के साथ पूर्वानुमान के आधार पर फसलों की बुआई, सिंचाई और कटाई सहित अन्य जानकारियां देंगे।

इस सेवा के लिए विभाग अत्याधुनिक एग्रोमेट सॉफ्टवेयर की सहायता लेगा। इसके द्वारा जिला स्तर पर कृषि मौसम बुलेटिन भेजा जाएगा। इस बुलेटिन को ब्लॉक और गांव के स्तर पर बनाये गये किसानों के व्हाट्सएप ग्रुप पर सेंड किया जाएगा।