उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव परिणामों के बाद अखिलेश यादव करहल सीट से विधायक रहना पसंद करेंगे या आजमगढ़ से सांसद इसको लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई थी। लेकिन अब उन्होंने लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा देकर साफ कर दिया है वो राज्य में ही काम करना पसंद करेंगे। अब माना जा रहा है कि यूपी चुनाव 2027 को ध्यान में रखकर समाजवादी पार्टी ने रणनीति में बदलाव किया है। पार्टी के लिए केंद्र की राजनीति से अधिक यूपी में पकड़ मजबूत करना जरूरी है। 

यह भी पढ़ें : सरकार को अरूणाचल में बड़ी कामयाबी, एक ही झटके में सरेंडर करवाई 2000 से अधिक एयर गन

राजनीतिक पंडितों के अनुसार 2017 में सत्ता गंवाने के बाद 2019 में अखिलेश यादव के लोकसभा चले जाने से वोटर्स के बीच गलत संदेश गया। वह विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले तक यूपी की जमीनी राजनीति में कम सक्रिय रहे। कई मौकों पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उनसे अधिक सक्रियता दिखाई और अखिलेश ट्विटर तक सीमित रह गए। माना जा रहा है कि इस धारणा का चुनाव में सपा को नुकसान उठाना पड़ा। 

होली के अवसर पर जब पूरा मुलायम परिवार सैफई में एकत्रित हुआ तो इस बात पर भी मंथन हुई कि अखिलेश यादव को विधानसभा की सदस्यता छोड़नी चाहिए या लोकसभा की। बताया जा रहा है कि खुद सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश को विधानसभा में रहकर अगले चुनाव की तैयारी में अभी से जुट जाने की सलाह दी। राम गोपाल यादव भी यही चाहते थे।

यह भी पढ़ें : युवक की कॉस्टेबल ने की इतनी खतरनाक पिटाई, हिल गया अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन

समाजवादी पार्टी भले ही सत्ता से दूर रह गई हो, लेकिन 2017 के मुकाबले पार्टी के वोट शेयर में बड़ा इजाफा हुआ है। सीटें भी काफी बढ़ गई हैं। इससे पार्टी के उत्साह में इजाफा हुआ है। चुनाव नतीजों को अखिलेश यादव ने भी इसी नजरिए से देखते हुए कहा था कि उनकी पार्टी की सीटें बढ़ी हैं और भाजपा की सीटें घटी हैं। अब देखना दिलचस्प होगा कि वह खुद नेता विपक्ष बनकर योगी को सीधी टक्कर देते हैं या फिर किसी और को आगे करेंगे?