यामिना दक्षिणपंथी राजनीतिक गठबंधन के नेता नफ्ताली बेनेट ने इजरायल के नए प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली। इसके साथ ही पिछले 12 वर्षों से सत्ता में रहे निवर्तमान प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू भी सत्ता से बेदखल हो गये। 

इजरायली संसद ‘नेसेट’ ने कई वर्षों की राजनीतिक अस्थिरता के बाद नेतन्याहू के विरोधियों की ओर से गठित नयी गठबंधन सरकार के पक्ष में वोट किया है। गठबंधन यामिना के प्रमुख नफ्ताली बेनेट को पहले प्रधानमंत्री बनाया जायेगा और और लगभग दो वर्ष बाद इजरायल की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी येश अतिद के नेता यायर लैपिड उनकी जगह लेंगे। 

संसद में हुए मतदान के दौरान नये समझौते के पक्ष में 60 सांसदों ने मत दिया जबकि 59 ने इसके खिलाफ वोट दिये। इसके बाद मंत्रियों का शपथ ग्रहण होगा और इसके बाद पहली मंत्रिमंडल की बैठक होगी। इससे पहले, इजरायल के राष्ट्रपति रियुवेन रिवलिन ने इजरायल की सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी येश अतिद के नेता यायर लैपिड को गठबंधन सरकार बनाने का जनादेश दिया। कार्यवाहक प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के मार्च के अनिर्णायक चुनावों के बाद जनादेश अर्जित करने में विफल रहने के बाद लैपिड को सरकार बनाने का आमंत्रण दिया गया है। 

इजरायल के नए प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट डिफेंस फोर्सेज की एलीट कमांडो यूनिट सायरेत मटकल और मगलन के कमांडो रह चुके हैं। साल 2006 में उन्होंने बेंजामिन नेतन्याहू के नेतृत्व में राजनीति में प्रवेश किया। इसके बाद वह नेतन्याहू के चीफ ऑफ स्टाफ बनाए गए। साल 2012 में नफ्ताली बेनेट द जुइश होम नाम की पार्टी पर संसद के लिए चुने गए। बाद में वे न्यू राइट और यामिना पार्टी से भी नेसेट के सदस्य बने। 2012 से 2020 के बीच नेफ्टाली 5 बार इजरायली संसद के सदस्य बन चुके हैं। 2019 से 2020 के बीच वह इजरायल के रक्षा मंत्री भी रहे हैं।

नफ्ताली बेनेट इजरायल के धुर विरोधी फलस्‍तीन की स्‍वतंत्रता का जमकर विरोध करते रहे हैं। बेनेट ने पश्चिमी किनारे और पूर्वी यरुशल में यहूदियों की बस्तियों को बसाने का जोरदार समर्थन किया है। इसे फलस्‍तीनी और अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय शांति की दिशा में सबसे बड़ी बाधा मानता रहा है। बेनेट ने इन बस्तियों को बसाने की योजना में देरी के नेतन्‍याहू के फैसले की कड़ी आलोचना की थी। अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा के दबाव में नेतन्‍याहू ने यह फैसला किया था। इसी वजह से फलस्‍तीनी लोगों में बेनेट के रुख को लेकर आशंका बढ़ गई है।