70वें गणतंत्र दिवस की परेड में इस साल कुल 22 झांकियां शामिल होंगी। इनमें 16 झांकियां राज्यों की, जबकि छह विभिन्न सरकारी मंत्रालयों और विभागों की होंगी। हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, राजस्थान इत्यादि राज्यों की झांकी अबकी बार परेड में नहीं होगी। खास बात यह कि इस साल सभी झांकियों की थीम एक ही रहेगी- राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती।

दिल्ली कैंट स्थित राष्ट्रीय रंगशाला में आयोजित पत्रकार वार्ता में यह जानकारी रंगशाला के विशेष कार्य अधिकारी दलपत सिंह ने दी। उनके साथ रक्षा विभाग के जनसंपर्क अधिकारी मरीन मई और झांकी प्रभारी राजीव भी मौजूद थे। सिंह ने बताया कि इस साल परेड में जिन राज्यों की झांकी शामिल रहेगी, उनकी सूची इस प्रकार है।

अंडमान एवं निकोबार (सेलूलर जेल में कैदियों के साथ गांधी जी की भूमिका), अरुणाचल प्रदेश (स्वयं में शांति), असम (असम में गांधीजी), दिल्ली (गांधी स्मृति), गोवा (विविधता में एकता), गुजरात (ऐतिहासिक दांडी मार्च), जम्मू कश्मीर (गांधी जी की आशा की किरण: हमारी मिश्रित संस्कृति), कर्नाटक (भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का बेलगावी सम्मेलन), महाराष्ट्र (भारत छोड़ो आंदोलन), पंजाब (जलियांवाला बाग), सिक्किम (कृषि और पर्यावरण में अहिंसा), त्रिपुरा (गांधी जी सोच से ग्रामीण अर्थव्यवस्था की मजबूती), तमिलनाडू (महात्मा गांधी के ड्रेस कोड का रूपांतरण), उत्तराखंड (आध्यात्मिक अनाशक्ति आश्रम), उत्तर प्रदेश (महात्मा गांधी की 150वीं जयंती का सम्मान), पश्चिम बंगाल (महात्मा गांधी और बंगाल)। 

इन राज्यों के अलावा परेड में शामिल छह सरकारी मंत्रालयों / विभागों की मुख्य आकर्षण सहित सूची इस प्रकार है कृषि मंत्रालय (किसान गांधी), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (गौरवशाली 50 वर्ष), केंद्रीय लोक निर्माण विभाग (वंदे मातरम), पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय (स्वच्छ भारत मिशन), ऊर्जा मंत्रालय (सौभाग्य : न्यू इंडिया रोशन इंडिया) और भारतीय रेल (मोहन से महात्मा)। सिंह ने बताया कि सभी झांकियों का चयन रक्षा मंत्रालय द्वारा गठित 10 सदस्यीय विशेषज्ञ समिति द्वारा किया गया है।