पिटबुल की गिनती दुनिया के सबसे खूंखार कुत्तों में होती है। कई देशों में तो इसे बैन भी कर दिया गया है। वहीं भारत में पिटबुल के काटने की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। बीते दिनों दिल्ली के एक पार्क में पिटबुल नस्ल के कुत्ते ने बच्चे पर हमला कर दिया था। जब तक बच्चे को छुड़ाया जाता, कुत्ते ने उसके चेहरे को बुरी तरह नोंच दिया। बच्चे के करीब 150 टांके लगे। वहीं डॉग मालिक पर 5 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया। 

ये भी पढ़ेंः इस शाही महल के कमरे गिनते-गिनते थम जाएंगे आप, 40 हजार बल्लों से होती है रोशनी, कीमत होश उड़ाने के लिए काफी


इससे पहले यूपी की राजधानी लखनऊ में पिटबुल डॉग ने अपनी ही मालकिन को मौत के घाट उतार दिया था। वहीं मेरठ में इस नस्ले के कुत्ते ने सलीम नाम के एक नाबालिग पर हमला किया था, जो मवाना इलाके में सौरभ नाम की एक दुकान में प्रशिक्षु के तौर पर काम करता है। बताया जा रहा है कि सलीम जैसे ही जाने के लिए उठा तो कुत्ते ने उसके चेहरे और गले पर हमला कर दिया। स्थानीय लोगों को कुत्ते के जबड़े से सलीम को छुड़ाने में पेचकस का इस्तेमाल करना पड़ा। इसके बाद कुत्ते ने अपने मालिक के बेटे को भी काट लिया और उसे घायल कर दिया। आपको बता दें कि पिटबुल के जबड़ों में गजब की ताकत होती है। माना जाता है कि जिस जगह पर वह वार करता है, वहां की हड्डियां तक चकनाचूर हो जाती हैं। पिटबुल में 235 पीएसआई की काटने की शक्ति होती है। इसलिए पिटबुल 40 से ज्यादा देश में बैन है, जिसमें ब्राजील, डेनमार्क, फिनलैंड, जर्मनी, बेल्जियम, इंग्लैंड, नॉर्वे, फ्रांस, पोलैंड, चीन, जापान और न्यूजीलैंड जैसे देश शामिल हैं। 

ये भी पढ़ेंः स्मार्टफोन पर एडल्ट कंटेंट देखना पड़ सकता है महंगा, खुफिया एजेंसियों की है कड़ी नजर


हाल ही में डॉग बाइट का मामला गाजियाबाद में सामने आया था, जहां लिफ्ट में एक पालतू कुत्ते ने छोटे बच्चे को काट लिया था। मामला राज नगर एक्सटेशन स्थित चार्ल्स कैसल सोसाइटी का था। हैरानी की बात तो यह है कि कुत्ते के काटने के बाद बच्चा दर्द से चिल्ला रहा था, लेकिन महिला चुपचाप खड़े होकर ये सब देख रही थी। इसके बाद परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने महिला के खिलाफ केस दर्ज किया था।