असम में एक फर्जी बाबा को गिरफ्तार किया गया है। वह किसिंग बाबा के रूप में मशहूर है। आरोप है कि किसिंग बाबा अपने भक्तों खासतौर पर महिलाओं को उनका इलाज करने और घरेलू दिक्कतें दूर करने के नाम पर किस और हग करता था। गिरफ्तार किए गए किसिंग बाबा की पहचान राम प्रकाश चौहान के रूप में हुई है। उसने भोरालतुप गांव में मंदिर बनवाया था।


जे.बोरा के नेतृत्व में मोरीगांव पुलिस ने झूठा प्रचार फैलाने व भक्तों खासतौर पर महिलाओं का शोषण करने वाले चौहान को गिरफ्तार कर लिया। उसकी मां को भी पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। किसिंग बाबा के पास महिलाएं जब अपनी शादीशुदा जिंदगी में आने वाली तकलीफों को लेकर पहुंचती तो बाबा उन महिलाओं को चूमता था। ये फर्जी बाबा गांव में स्थानीय लोगों के बीच काफी मशहूर था। बताया जा रहा है कि बाबा पिछले तीन महीने से यह गोरखधंधा चला रहा था।


चौहान ने दावा किया है कि उसके पास भगवान विष्णु की अलौकिक शक्तियां हैं और उसके किस से किसी भी बीमार शख्स का इलाज हो सकता है। आपको बता दें कि आंध्र प्रदेश में भी इसी तरह का मामला सामने आया था। वहां भी एक फर्जी बाबा बीमार महिलाओं को इलाज के नाम पर किस और हग करता था। यह मामला कडपा जिले का था। वह भी किसिंग बाबा के नाम से मशहूर था। कस्बे में स्थित अयप्पा मंदिर के पीछे किसिंग बाबा ने एक कमरा बना रखा था, वहीं से वह ऑपरेट करता था।


मामला 2014 का है। पुलिस को जब इस बाबा के बारे में जानकारी मिली तो उसने छापा मारा और बाबा को गिरफ्तार किया।  पुलिस ने बाबा के फॉलोअर सुब्बा रेड्डी को भी गिरफ्तार किया था। सुब्बा रेड्डी ने कडपा डिले में बाबा के कथित जादू का प्रचार प्रसार किया था।