केंद्रीय मंत्रिमंडल में दूसरी बार जगह पाने वाले किरेन रिजिजु को पूर्वोंत्तर में सरकार और भारतीय जनता पार्टी का चेहरा माना जाता है। तीसरी बार लोकसभा पहुंचे रिजिजु पिछली सरकार में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री थे। वह पूर्वोत्तर की आवाज भी माने जाते हैं। पेशे से वकील रिजिजु का जन्म 19 नवंबर, 1971 को अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी पूर्वी कांमेंग जिले के नफ्रा में हुआ। बौद्ध धर्म के अनुयाई रिजिजु के परिवार में पत्नी रीना रिजिजु और दो बेटे और दो बेटियां हैं। वह चौदहवीं और सोलहवीं लोकसभा के भी सदस्य रहे हैं।


उनके पिता का नाम रिंचिन खारू और माता का नाम चिरई रिजिजु है। उनके पिता अरुणाचल प्रदेश की प्रथम विधानसभा के अस्थाई अध्यक्ष थे। रिजिजू अपने स्कूल और काॅलेज के दिनों से ही सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में जाने जाते हैं। वह राष्ट्रीय खेलों में हिस्सा ले चुके हैं। उन्होंने भारतीय युवा और सांस्कृतिक दल के सदस्य के तौर पर कई देशों की यात्रा की है। वह विदेश जाने वाले कई संसदीय दलों का हिस्सा रहे हैं। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के हंसराज महाविद्यालय से स्नातक की डिग्री ली है। उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के विधि विभाग से स्नातक(एलएलबी) की डिग्री हासिल की।