हिमाचल प्रदेश में किन्नौर जिला प्रशासन ने कोरोना महामारी को देखते हुए किन्नर कैलाश यात्रा स्थगित कर दी है। इस आशय का निर्णय जिला उपायुक्त आबिद हुसैन सादिक ने बैठक की अध्यक्षता करते हुए लिया है। बैठक में स्थानीय ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधियों ने जिला प्रशासन से आग्रह किया कि इस वर्ष भी किन्नर कैलाश यात्रा को पूर्ण रूप से स्थगित कर दिया जाए। 

किन्नर कैलाश यात्रा के मुख्य मार्गों पर पुलिस व गृहरक्षकों की तैनाती की जाए, ताकि कोई भी चोरी-छिपे यात्रा पर न जा सके। उल्लेखनीय है कि कोविड के कारण ही कुल्लू की श्रीखंड महादेव यात्रा को भी स्थगित कर दिया गया था, लेकिन प्रतिबंध के बावजूद कुछ युवक वहां निकल गए थे, जिनमें से एक की हिमखंड से गिरकर मौत हो गई थी। उपायुक्त ने बताया कि अगले वर्ष यात्रा के दौरान लोगों को सुविधा प्रदान करने के लिए एक कमेटी गठित की जाएगी। 

इसके अध्यक्ष उपमंडलाधिकारी कल्पा होंगे। स्थानीय ग्राम पंचायतों के प्रधान, उपप्रधान सहित जिला प्रशासन के अधिकारी सदस्य होंगे। यह कमेटी श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए पर्यावरण मित्र अधोसंरचना विकसित करने संबंधी सुझाव देगी। उपायुक्त ने उपमंडलाधिकारी कल्पा को किन्नर कैलाश यात्रा को लेकर एक विस्तृत योजना रिपोर्ट तैयार करने का निर्देश लिया है। बैठक में उपमंडलाधिकारी कल्पा स्वाती डोगरा, पुलिस उप अधीक्षक विपिन कुमार, तहसीलदार कल्पा विवेक नेगी, पवारी पंचायत के प्रधान भूपेंद्र ङ्क्षसह, रिब्बा की प्रधान राधिका, उपप्रधान पूर्वनी राज कपिल आदि मौजूद रहे।