उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग उन ने पहली बार अपनी नाकामी को लेकर जनता से माफी मांगी है। किम जोंग ने कोरोना महामारी की मुश्किल परिस्थितियों में नाकाम रहने को लेकर माफी मांगी। किम जोंग माफी मांगने के बाद अपनी आंखों से आंसू पोछते भी नजर आए।
अपनी पार्टी की 75वीं वर्षगांठ पर संबोधित करते हुए किम जोंग उन भावुक हो गए। किम जोंग उन ने कहा कि वह उत्तर कोरिया के लोगों की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए और इसके लिए वह माफी मांगते हैं। किम जोंग ने अपना चश्मा उतारा और भाषण के दौरान अपने आंसू पोछने लगे।
अपने पूर्वजों और विरासत का जिक्र करते हुए किम ने कहा, किम 2 संग और किम जोग इल के महान उद्देश्य को पूरा करने के लिए इस देश के लोगों ने मुझे जिम्मेदारी सौंपी है। लेकिन मेरी कोशिशें और गंभीरता लोगों की जिंदगी की मुश्किलें कम करने के लिए पर्याप्त साबित नहीं हुई हैं। मुझे इसका अफसोस है।
कहा जा रहा है कि किम जोंग उन का इस तरह से अचानक भावुक होना ये दिखाता है कि कोरोना वायरस की महामारी और परमाणु हथियारों को लेकर लगे प्रतिबंधों की वजह से उनकी लीडरशिप पर बहुत ज्यादा दबाव है।
अपने भावुक भाषण के दौरान किम जोंग उन ने कोरोना वायरस की महामारी की वजह से पूरी दुनिया में चल रहे चुनौतीपूर्ण वक्त का जिक्र किया। किम जोंग ने दक्षिण कोरिया के साथ रिश्ते सुधारने की भी इच्छा जाहिर की। हालांकि, किम जोंग ने अमेरिका की सीधे तौर पर आलोचना नहीं की।
उत्तर कोरिया ने शनिवार को सैन्य परेड में लेटेस्ट मिसाइल का प्रदर्शन किया। ये मिसाइल उत्तर कोरिया की इंटर-कॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल से भी ताकतवर है। सैन्य परेड को लेकर दक्षिण कोरिया ने चिंता जाहिर की और उत्तर कोरिया से अपील की कि वो निशस्त्रीकरण के अपने वादे पर कायम रहे। दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्री ने कहा, उत्तर कोरिया ने संभवत: लंबी दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल का प्रदर्शन किया है।